Published On : Mon, Nov 15th, 2021

मिलिंद की मौत बड़ी उपलब्धि !

– मुठभेड़ में 6 महिला नक्सली समेत 26 नक्सलियों की मौत, भारी मात्रा में हथियार बरामद


गडचिरोली – गडचिरोली जिले में कोरची तहसील के कोटगुल व ग्यारहपत्ति के बीच मरदिनटोला क्षेत्र में शनिवार को हुई भीषण मुठभेड़ में 6 महिला नक्सली समेत कुल 26 नक्सलियों को मार घिराने में नक्सल विरोधी दस्ता सी60 को बड़ी सफ़लता हाथ लगी है। इस मुठभेड़ में जहां नक्सलियों को बड़ी क्षति पहुंची है। वही सुरक्षा बल इससे बड़ी उपलब्धि के रूप में मान रहे है। मुख्यतः इस मुठभेड़ में 50 लाख का इनामी नक्सली मिलिंद तेलतुंबड़े के मौत की पुष्टि होना सुरक्षा बलों के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा है।

शनिवार को सुबह से लेकर दो पहर तक घंटो चली भीषण मुठभेड़ में महारष्ट्र के नक्सल विरोधी विशेष दस्ता सी60 ने गड़चिरोली जिले में बड़ी नक्सल मुठभेड़ को सफलतापूर्वक अंजाम दी है। इस मुठभेड़ को छत्तीसगढ़ व महाराष्ट्र के सीमावर्ती इलाके में अंजाम दिया गया है। इस मुठभेड़ से सुरक्षा बलों के खुफिया तंत्र के उम्दा होने व उस पर समय समय पर उठते सवालों पर भी कुछ हद तक अंकुश लगाया है। बताया गया है कि इस मुठभेड़ में जहां 6 महिला नक्सली समेत कुल 26 नक्सलियों की मौत हुई है। उनमें से नक्सलियों के एमएमसी (मध्यप्रदेश, महारष्ट्र, छत्तीसगढ़) के सीसी मेम्बर मिलिंद तेलतुंबड़े समेत 16 कई शिनाख्त हो चुकी है। शेष की शिनाख्त करने का प्रक्रिया जारी है। इस उपलब्धि को लेकर राज्य के गृहमंत्री व जिले के प्रभारी मंत्री व राज्य के शहरी विकास मंत्री में नक्सली विरोधी विशेष दस्ता सी60 एवं गड़चिरोली पोलिया का पीठ थप थपाया है। मारे गए नक्सलियों पर महाराष्ट्र सरकार ने 1 करोड़ 38 लाख रुपियों का इनाम घोषित कर रखा था। साथ ही एमएमसी व सीसी मेम्बर मिकिंड तेलतुंबड़े पर अलग अलग राज्यों ने कुल 2 करोड़ का नियम घोषित कर रखा था।

कौन है मिलिंद तेलतुंबड़े
जानकारी के मुताबिक एमएमसी व सीसी मेंबर मिलिंद तेलतुंबड़े जिस पर अलग अलग राज्यों ने करीब 2 करोड़ की राशि इनाम के तौर पर घोषित कर रखे थे। मिलिंद को भीमा कोरेगांव हिंसा के मास्टरमाइंड कहा जाता है। वह मूलतः यावतमल जिले के वणी तहसील के राजुरा का निवासी होना बताया गया है। मिलिंद इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूर्ण कर ली थी। उसका किरदार नक्सल संघटन में हथियारों का प्रशिक्षण देना था। साथ ही बड़े घटनाओं को अंजाम देने में मिलिंद को निपुण माना जाता था। एल्गर परिषद मामले में जेल में बंद डॉ आनंद तेलतुंबड़े का वह भाई था। मिलिंद तेलतुंबड़े के मौत को एमएमसी क्षेत्र में नक्सलियों को बढ़ी क्षति माना जा रहा है।


मुठभेड़ में चार पोलिसकर्मी घायल
इस मुठभेड़ में शामिल चार पोलिस कर्मियों कि घायल होने की जानकारी निकल कर आयी है।जिन्हें बेहतर इलाज के लिए नागपुर के स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करने बात कही गयी है। जहां उनका इलाज किया जा रहा है। उनकी हालात खतरे से बाहर बतायी गयी है।

मुठभेड़ के बाद भारी मात्रा में हथियार मिले
जानकारी के मुताबिक सुरक्षा बलों को जिले के कोरची तहसील के मरदिनटोला इलाके में नक्सलियों की शीर्ष नेतृत्व से जुड़े नकसलियों की जमवाड़ा हो रही है। इसको देखते हुए सुरक्षा बलों ने रणनीति बनाकर घटना स्थल की ओर रवाना हुए। जहां करीब 10 घंटे के मुठभेड़ के बाद घटना स्थल से सुरक्षा बलों ने 26नक्सलियों के शवों के अलावा 100 से अधिक पिट्ठू, 5 AK 47 , यूबीजीएल एक एके 47, 9 एसएलआर, 1इन्सास रायफल,3 थ्रीनाट थ्री, 9 बारह बोर की बंदूके, एक पिस्तौल समेत करीब 29 हथियार बरामद किए गए है।

गृहमंत्री व जिले के पालकमंत्री ने भी पीठ थप थपायी
जिले में इस मुठभेड़ को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले टुकड़ी को राज्य के गृहमंत्री दिलीप पाटिल व जिले के पालकमंत्री मंत्री एकनाथ शिंदे ने प्रशंशा करते हुए उनकी पीठ थप थपायी है। राज्य के गृहमंत्री ने अपने ट्विटर अकाउंट पर मुझे मेरे गड़चिरोली पोलिस पर अभिमान है कहकर उनकी प्रशंसा की है। इसके अलावा जिले के पालकमंत्री ने मुठभेड़ को सफ़लता पूर्वक अंजाम देने वाले टीम को पुरस्कृत करने के दिशा में राज्य के मुखिया एवं गृहमंत्री से सिफारिश करने की मंशा जाहिर की है।

– सतीश कुमार,गडचिरोली