Published On : Sun, Apr 25th, 2021

घर घर में हुआ महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव का आयोजन

सार्वजनिक कार्यक्रम रद्द
जैन समाज ने आदर्श प्रस्तुत किया

नागपुर : जैन धर्म के 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर का 2620 वा जन्म कल्याणक महोत्सव घर घर में सादगी के साथ मनाया गया. राज्य में लगातार दूसरे वर्ष लॉकडाउन होने से महावीर जन्म कल्याणक के अवसर पर जैन समाज की ओर से शहर में होनेवाले सभी कार्यक्रमों को जैन समाज के सभी संस्थाओं के पदाधिकारियोंने रद्द कर दिए थे. इस वर्ष अनेक संस्थाओं कार्यक्रमों का ऑनलाइन आयोजन किया.

जैन समाज ने प्रशासन के आदेश का पूरी तरह पालन किया. जैन धर्म के साधु संतों ने वीडियो संदेश जारी कर श्रावकों को घर में ही महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव मनाने के निर्देश दिये थे. रथयात्रा, शोभायात्रा और सड़क या सार्वजनिक जगह पर कोई भी कार्यक्रम नहीं करने को कहा था. नागपुर के सभी जैन मंदिर ताला बंद होने से लोगों ने सुबह से ही घर-घर में महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव मनाते हुए आज के वर्तमान स्थिती में कैसे रहे इस आदर्श प्रस्तुत किया.


पिछले 81 वर्षों से श्री.जैन सेवा मंडल द्वारा महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव का सार्वजनिक आयोजन किया जा रहा था लेकिन इस वर्ष लॉकडाउन के कारण नहीं हो सका. रविवार को सुबह घर-घर में महिलाओं ने घर के सामने रंगोली, घर पर जैन झंडा लगाया. घर-घर में अभिषेक, पूजन तीर्थंकर प्रभु पालने को सजाया था,

गीत प्रस्तुत किये गये. बाद में लोगों ने एक दूसरें को सोशल मीडिया, फोन कर अपने रिश्तेदारों को बधाई दी. छह वर्षीय नन्ही बालिका अन्वी अतुल आगरकर ने भगवान महावीर की माता त्रिशला रानी की वेशभूषा में बाल महावीर को पालने में झुलाया.

इतवारी लाडपुरा निवासी नितिन नखाते ने परिवार के साथ आशीर्वाद भवन निवासस्थान में महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव का आयोजन किया. सुबह जिनेन्द्र भगवान की महाशांतिधारा की. श्री महावीर विधान, श्री पार्श्वनाथ विधान, विश्व शांति के लिए शांति विधान किया और 48 दीये लगाकर भक्तामर पाठ किया. पूरे विश्व से कोरोना के मुक्ति के लिए सामुहिक प्रार्थना की. भोजनावकाश के बाद परिवार के सदस्यों के बीच भजन, गीत, प्रश्नमंच, मिमिक्री, अंताक्षरी का आयोजन किया.