Published On : Mon, Feb 2nd, 2015

नांदागोमुख : श्री विठ्ठल मंदिर में माघ जया एकादशी

Jaya ekadashi
नांदागोमुख (नागपुर)। नांदागोमुख त. सावनेर जि.नागपुर के पुरातत्व प्रसिद्ध श्री विठ्ठल – रुख्मीनी देवस्थान मंदिर गांव के मध्यभाग में जोग नदी किनारे पर स्थीत है. 30 जनवरी 2015 को प्रातः 4 बजे मूर्ती को मंगलस्थान पर प्रतिष्ठित सपत्नीक गुलाबराव बालापुरे के हांथों नए वस्त्र परिधान किये गए. उसके बाद विठ्ठल रुक्मिनी वारकरी भजन मंडल की ओर से काकडा भजन हरिनाम जयघोष में दशरथ लांडे गुरूजी और संच से भाविक और ग्रामवासी लीन हो गए. सुबह 6 बजे आरती कर प्रसाद, फराल वितरण किया गया.

दोपहर 12 बजे वारकरी विश्राम सातपुते की ओर से भजन कार्यक्रम 3 बजे तक हुआ. उसके बाद 6 महीनों से शुरू “अखंड हरिपाठ” हुआ. वारकरी और ग्रामवासी भाविक स्त्री और पुरुष तथा नवयुवक तल्लीन हुए. ज्ञानदेव-तुकाराम के गजर में विठ्ठल रुख्मीनी के प्रती पंढरपुर दिनभर धार्मिक कार्यक्रम में लीन हो गए.

आयोजन प्रतिष्ठित मोहनदास राठी, प्रेमताज मोवो जगदीश जीवतोडे, स्वप्निल मोवाडे, पांडुरंग ठोजरे, देवेन्द्र चांदेकर, पुलिस पाटिल भैयाजी मोवाडे, भीमराव बावनकर, मारोती मिलमिले नारायण बोबडे, निलकंठ सातपुते, पुरुषोत्तम देरकर, फनीद्र आमटे और महिला सरस्वती कोसकर, वैशाली धांडे, भोजराज पारधी, मंगेश बावनकर से सहयोग से कार्यक्रम हुआ. कार्यक्रम का समारोप अल्पोपहार से हुआ.