Published On : Fri, Dec 23rd, 2016

उज्ज्वला योजना की लाभार्थी महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन वितरित

lpg-connections-distributed

नागपुर: शुक्रवार को नागपुर में केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत लाभार्थी महिलाओं को एलपीजी गैस कनेक्शन वितरित किए गए। जिले में योजना के प्रथम चरण में करीब 10 हजार अल्पआय वाले परिवारों को एलपीजी गैस कनेक्शन प्रदान किये गए। कस्तूरचंद पार्क मैदान में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी और केंद्रीय पेट्रोलियम राज्य मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान के हस्ते 20 महिलाओं को गैस कनेक्शन सौंपकर शहर में इस योजना की औपचारिक शुरुआत की गयी।

कार्यक्रम में बोलते हुए धर्मेन्द्र प्रधान ने कहाँ कि देश में जो काम बीते 70 साल में नहीं हुआ, वह अब हो रहा है। घरेलू प्रदूषण के कारण हर वर्ष 5 लाख महिलाओं की मृत्यु हो जाती है। प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के बलिया से इस योजना की शुरुवात की थी और केवल आठ महीने में देश भर में 1 करोड़ 20 लाख महिलाओं को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना से जोड़ा जा चुका है। महाराष्ट्र में साढ़े चार लाख महिलाओं को इस योजना से फ़िलहाल जोड़ा गया है। आने वाले ढाई साल में राज्य में ऐसा कोई घर नहीं होगा जहाँ गैस का कनेक्शन न हो। आज भी अकेले महाराष्ट्र राज्य में 15 लाख परिवारों के पास गैस कनेक्शन नहीं है। नियमओं में बदलाव कर एलपीजी के डिस्ट्रीब्यूटर्स की व्यवस्था ग्रामीण क्षेत्रों में भी पहुंचाई जा रही है।

केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने इस योजना को गरीब परिवार की महिलाओं के लिए बेहद अहम करार दिया, श्री गड़करी के मुताबिक प्रधानमंत्री ने संपन्न लोगों से एलपीजी सब्सिडी छोड़ने की अपील की जिसका फायदा इन गरीब महिलाओं को मिल रहा है। हर वर्ष सरकार मिट्टी तेल आपूर्ति के लिए हजारों करोड़ की सब्सिडी देती है। लेकिन एलपीजी गैस का इस्तेमाल कई तरह से फायदेमंद है। राज्य में करीब 1 लाख महिला बचत गट हैं जिनमे से 40 हजार बचत गट परिवार इस स्कीम में नहीं आते हैं, पर जिन्हें इस योजना से जोड़ने की जरुरत है। श्री गड़करी ने कई अन्य तरह के प्रयास कर इस योजना का लाभ गरीब परिवारों तक पहुँचाने की जानकारी दी। जिले के नरखेड़ तहसील का उदाहरण देते हुए उन्होंने ने बताया कि स्थानीय विधायक आशीष देशमुख और जिलाधिकारी सचिन कुर्वे के प्रयास से यह तहसील अब कैरोसिन मुक्त हो चुकी है। पायलट प्रोजेक्ट चलाकर 1500 परिवारों को एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराये गए। इन गरीब परिवारों को योजना का लाभ दिलाने के लिए 54 लाख रूपए का कर्ज बैंक ने दिया। यह योजना ग्रामीण जनता के विकास के लिए शुरू की गयी है।


मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के अनुसार बीते 70 सालों में सिर्फ 13 करोड़ लोगों तक एलपीजी कनेक्शन पहुँचाया गया जबकि बीते तीन साल में पांच करोड़ लोगों तक एलपीजी कनेक्शन पहुँचेगा। ऐसा इतिहास में कभी नहीं हुआ। जिले में 10 हजार परिवारों को कनेक्शन दिया जा रहा है। आने वाले वक्त में ऐसा एक भी घर नहीं होगा जहाँ गैस कनेक्शन न हो। यह प्रधानमंत्री मोदी की संकल्पना और दूरदृष्टि का नतीजा है। इस सरकार के लक्ष्य-केंद्र में गाँव , गरीब और किसान हैं, जिनके विकास के प्रति हम समर्पित है। इसी कार्यक्रम में बोलते हुए जिले के पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने जिले में इस योजना के सर्वे की गलती की वजह से छूट गए 12 हजार महिलाओं को योजना में शामिल करने और उन्हें योजना का लाभ देने की अपील पेट्रोलियम मंत्री से की।