Published On : Tue, Jan 30th, 2018

लोकसभा-विधानसभा चुनाव साथ होने के आभास के साथ बीजेपी जुटी काम पर


नागपुर: आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ होने के कयासों के बीच भारतीय जनता पार्टी ने देश भर में इसी दिशा में पहल भी शुरू कर चुकी है। पार्टी आलाकमान से इस संबंध में दिशानिर्देश भी जारी किये गए है। सोमवार को बजट सत्र के पहले दिन संसद के संयुक्त सदन को दिए गए संबोधन में राष्ट्रपति ने एक साथ चुनाव कराए जाने की पहल किये जाने की दिशा में संकेत भी दिए। बजट सत्र के दौरान राष्ट्रपति द्वारा सरकार की तरफ से बात रखी जाती है यानि साफ़ है की सरकार 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के साथ देशभर में विधानसभा चुनाव भी कराने की पहल कर सकती है। नागपुर में भाजपा संगठन इसी रुख पर काम कर रहा है। आगामी चुनावों को देखते हुए अभी से ही तैयारी शुरू कर दी गई है।

वर्तामन में पार्टी से चुनकर आये जनप्रतिनधियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार हो रहा है साथ ही उनके कार्यकाल में उनके कामों का आकलन भी हो रहा है। पार्टी का मकसद जनता के साथ आतंरिक असंतोष को भी ख़त्म करना है। सोमवार को पार्टी नीतियों को लगातार नजरअंदाज करने वाले 42 नगरसेवकों को नोटिस थमाया जाना इसी ओर इशारा भी करता है।

पार्टी का खुद का आकलन कहता है की केंद्र, राज्य और स्थानीय निकाय में सत्ता होने के बावजूद जनता के प्रश्नो को उस स्तर पर हल करने में कामियाबी नहीं मिल पायी है जितनी होनी चाहिए थी। महानगर पालिका चुनाव के दौरान निष्ठावान कार्यकर्ताओ को दरकिनार कर पार्टी ने बाहरी लोगों को उम्मीदवारी दी जिसकी नाराजगी वर्षो से पार्टी का काम कर रहे कार्यकर्ताओं में है। अब संगठन का यह प्रयास है की वह निष्ठावान को यह समझाये की पार्टी उनके साथ है और जो पार्टी नियमों की अनदेखी कर रहे है उन्हें यह संदेश दे की लापरवाही अब बर्दाश्त नहीं की जायेगी।