Published On : Mon, Dec 15th, 2014

पवनी : तेंदुआ शिकार मामले में एक गिरफ्तार

 

  • वन विभाग को मिली सफलता
  • कुल्हाड़ी, तार से बने 24 फंदे जब्त
  • और भी खुल सकते हैं राज
  • आरोपी वनविभाग के रिमाण्ड पर

leopard Hunt
पवनी (भंडारा)। उमरेड-करांडला अभयारण्य के पवनी वन्यजीव परिक्षेत्र के जंगल के पास प्रादेशिक वनविभाग अंतर्गत एक खेत में हुए तेंदुआ शिकार मामले के एक आरोपी को 7 दिनों के बाद गिरफ्तार करने में वनविभाग को सफलता मिली है. इसमें कुल्हाड़ी, तार के 24 फंदे जब्त किए गए हैं.

बता दें कि पवनी-खापरी सड़क के आगे गोसीखुर्द बाँध के दाहिने नाले के पास स्थित जंगल के करीब खेत में एक तेंदुआ मृतावस्था में पाया गया था. जिसकी सूचना वन विभाग को मिलते ही सघन जाँच में जुट गयी. जाँच के दौरान मिले सबूतों के बिनाह पर आरोपी तक पहुँचने में मदद मिली.

leopard Hunt  (2)
कल वन विभाग ने एक प्रशिक्षित स्वान की मदद से जाँच कार्य किए जाने से झाडिय़ों के नीचे दबा कर रखे तेंदुए के शिकार में प्रयुक्त कुल्हाड़ी जब्त की. वहीं पास में ही फंदा बनाने के उपयोग में लाये लोहे के तार के 24 फंदे व अन्य सामग्री भी बरामद कर ली गई. शिकार मामले में प्राप्त सामग्री से पूरा मामला उक्त खेत के मालिक पर जा टिकी. उक्त खेत के मालिक आरोपी परमानन्द वातू लांजेवार (60) ताडेश्वर वार्ड, पवनी को गिरफ्तार कर लिया गया. आरोपी पर वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 की धाराएँ 2, 97 (2) (क) के तहत मामला दर्ज किया गया है. इसमें आरोपी को 3-7 वर्ष तक की सज़ा हो सकती है. आरोपी को फिलहाल वन विभाग की कस्टडी में रिमाण्ड पर रखा गया है. जाँच कार्य सहायक वन संरक्षक भंडारा के वी.टी. बिसेन के मार्गदर्शन में पवनी वनक्षेत्राधिकारी डी.डी. डुडे, वन्य जीव पवनी वनपरिक्षेत्राधिकारी डी.जे. गायकवाड़, मानद वन्य जीव संरक्षक नागपुर, भंडारा के राजकमल जोब व वन कर्मचारी कर रहे हैं.