Published On : Mon, Apr 21st, 2014

सिंदेवाही: कुएं में गिरे तेंदुए की जान गई


सिंदेवाही.

नवरगांव उप वन क्षेत्र के आसेसुर गांव में कुएं में गिरे तेंदुए की बाहर निकालते समय मृत्यु हो गई. वन विभाग द्वारा लगाए गए बेहोशी के इंजेक्श्न से ही उसकी मौत होने का आरोप ग्रामवासियों द्वारा लगाया जा रहा है. सिंदेवाही वन परिक्षेत्र के आलेसुर गांव के कुएं में कल सुबह करीब चार से पांच वर्ष का तेंदुआ गिर गया. सुबह जब कुएं पर पानी भरने के लिए एक महिला पहुंची तो उसे वह दिखा. इसके बाद तेंदुए को देखने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई.

Advertisement

घटना की जानकारी वन विभाग को मिलते ही तीन वन रक्षक मौके पर पहुंचे और चारपाई की सहायता से तेंदुए को बाहर निकालने की कोशिश में जुट गए. पूरे दो घंटे के बाद सिंदेवाही का रेस्क्यू दस्ता पहुंचा और चारपाई का आधार लेकर कुएं में बैठे तेंदुए को बेहोशी का इंजेक्शन दिया तथा उसे बाहर निकालने का प्रयास शुरू किया. लेकिन चारपाई का आधार लेकर बैठा तेंदुआ बेहोश होने के बाद कुएं में गिर गया. जिसे पूरे आधे घंटे के बाद बाहर निकालने में वन कर्मचारियों को सफलता मिली. लेकिन तब तक उसकी मौत हो गई थी.

Advertisement

जब उसे बेहोशी का इंजेक्शन दिया गया तो उसे पानी में गिरने से बचाने के लिए आधार दिया जाना चाहिए था. लेकिन अधिकारियों ने ऐसा कुछ नहीं किया. जिससे बेहोश होने के बाद वह पानी में डूब गया और करीब आधा घंटा पानी में ही रहने से उसकी मौत हो गई. कुएं से बाहर निकालने के बाद तेंदुए को पिंजरे में डालकर वन विभाग द्वारा उसे सिंदेवाही लाया गया. इस संदर्भ में ब्रह्मपुरी के उपवन संरक्षक से जब पूछा गया तो उन्होंने तेंदुए की मौत कुएं में डूबने से होने की बात बताई.

Advertisement

Pic-5

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement