Published On : Mon, Apr 21st, 2014

सिंदेवाही: कुएं में गिरे तेंदुए की जान गई


सिंदेवाही.

नवरगांव उप वन क्षेत्र के आसेसुर गांव में कुएं में गिरे तेंदुए की बाहर निकालते समय मृत्यु हो गई. वन विभाग द्वारा लगाए गए बेहोशी के इंजेक्श्न से ही उसकी मौत होने का आरोप ग्रामवासियों द्वारा लगाया जा रहा है. सिंदेवाही वन परिक्षेत्र के आलेसुर गांव के कुएं में कल सुबह करीब चार से पांच वर्ष का तेंदुआ गिर गया. सुबह जब कुएं पर पानी भरने के लिए एक महिला पहुंची तो उसे वह दिखा. इसके बाद तेंदुए को देखने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई.

घटना की जानकारी वन विभाग को मिलते ही तीन वन रक्षक मौके पर पहुंचे और चारपाई की सहायता से तेंदुए को बाहर निकालने की कोशिश में जुट गए. पूरे दो घंटे के बाद सिंदेवाही का रेस्क्यू दस्ता पहुंचा और चारपाई का आधार लेकर कुएं में बैठे तेंदुए को बेहोशी का इंजेक्शन दिया तथा उसे बाहर निकालने का प्रयास शुरू किया. लेकिन चारपाई का आधार लेकर बैठा तेंदुआ बेहोश होने के बाद कुएं में गिर गया. जिसे पूरे आधे घंटे के बाद बाहर निकालने में वन कर्मचारियों को सफलता मिली. लेकिन तब तक उसकी मौत हो गई थी.

जब उसे बेहोशी का इंजेक्शन दिया गया तो उसे पानी में गिरने से बचाने के लिए आधार दिया जाना चाहिए था. लेकिन अधिकारियों ने ऐसा कुछ नहीं किया. जिससे बेहोश होने के बाद वह पानी में डूब गया और करीब आधा घंटा पानी में ही रहने से उसकी मौत हो गई. कुएं से बाहर निकालने के बाद तेंदुए को पिंजरे में डालकर वन विभाग द्वारा उसे सिंदेवाही लाया गया. इस संदर्भ में ब्रह्मपुरी के उपवन संरक्षक से जब पूछा गया तो उन्होंने तेंदुए की मौत कुएं में डूबने से होने की बात बताई.

Pic-5