Published On : Wed, Apr 1st, 2015

अकोला : ज्ञान मंदिर में अश्लीलता की इंतेहां


नवोदय विद्यालय में 2 शिक्षकों की 49 छात्राओं से छेडछाड

राज्य महिला आयोग की सदस्या ने दर्ज कराई शिकायत

अकोला। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय की कक्षा 12 वीं में अध्ययनरत 49 छात्राओं की ओर से उनके अभिभावकों ने सिविल लाईन पुलिस थाने में शाला के दो अध्यापकों के खिलाफ छात्राओं से छेडछाड का मामला दर्ज करवाया है. राज्य महिला आयोग की सदस्य डा. आशा मिर्गे की शिकायत पर सिविल लाईन पुलिस ने जांच आरंभ कर दी है. छात्राओं के साथ छेडछाड   खबर फैलते ही बाभुलगांव में खलबली मच गई. घटना के संदर्भ में नवोदय विद्यालय के प्राचार्य सिंह के संपर्क का प्रयास किया गया लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया.

राज्य महिला आयोग की सदस्या डा. आशा अनंत मिर्गे ने सिविल लाईन पुलिस ठाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई कि उन्हें 27 मार्च को एक गुमनाम पत्र मिला जिसमें जवाहर नवोदय विद्यालय अकोला में कार्यरत 42 वर्षीय शिक्षक आर.डी. गजभिए एवं 50 वर्षीय शैलेश रामटेके द्वारा छात्राओं से छेडछाड करने की शिकायत की गई थी. डा. मिर्गे के अनुसार जब सच्चाई जानने के लिए वे विद्यालय में पहुंची तब प्रयोग शाला सहायक शुभांगी कुर्वे एवं कक्ष सेविका वंदना कांबले ने भी छेडछाड की पुष्टि की. शाला की एक छात्रा ने 20 मार्च को छेडछाड की शिकायत प्राचार्य सिंह से कि थी. जिसकी जांच कर रिपोर्ट विभागीय कार्यालय को भेजी गई. जानकारी मिलते ही संबंधित अध्यापकों ने शिकायत करने वाली छात्रा के बार्शिटाकली स्थित घर जा कर पिता से मुलाकात की जिसके बाद छात्रा की शिकायत वापस ले ली गई.

इस संदर्भ में जब डा. आशा मिर्गे ने छात्राओं से व्यक्तिगत पूछताछ की तब 49 छात्राओं ने उनके साथ भी दोनो अध्यापकों द्वारा अश्लील हरकतें करने, छेडछाड करने, अप शब्दों का इस्तेमाल करने की शिकायत की. फलस्वरूप मंगलवार को पीड़ित छात्राओं के अभिभावकों के साथ नवोदय विद्यालय में बैठक हुई जिसमें छात्रााअ‍ें ने डा. मिरगे, प्राचार्य सिंह एवं अभिभावकों के समक्ष आप बीती सुनाई इस बैठक में रसायनशास्त्र एवं जीवशास्त्र के दोनों अध्यापकों को उनका पक्ष रखने के लिए उपस्थित रहने को कहां गया था. लेकिन दोनों अध्यापक परिवार समेत फरार हो चुके थे. इसलिए देर शाम दोनों अध्यापकों के खिलाफ छात्राओं से छेडछाड के संदर्भ में कार्रवाई करने की शिकायत दी गई है.

महिला निवासी विद्यालयों में महिला कर्मचारी हों : डॉ. मिरगे
महिला आयोग की सदस्य डा. आशा मिरगे की शिकायत पर छात्राओं से छेडछाड का मामला सामने आया है. इस संदर्भ में उन्होंने बताया कि जहां छात्राओं का निवासी विद्यालय है, उसके आस पास भी पुरूष  कर्मचारियों की नियुक्ति नहीं की जानी चाहिए. अन्यथा इस तरह की घटनाए घटती रहेंगी.

Representational Pic

Representational Pic