Published On : Fri, Oct 6th, 2017

परीक्षा विभाग की लापरवाही को लेकर एनएसयूआई ने किया परीक्षा नियंत्रक का घेराव

NSUI
नागपुर: एनएसयूआई के विद्यार्थियों की ओर से परीक्षा विभाग के अधिकारियों की सुस्त कार्यप्रणाली और लापरवाही को लेकर परीक्षा विभाग में जमकर नारेबाजी और प्रदर्शन किया गया. एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष अजित सिंह के अनुसार काटोल रोड के कुल 36 विद्यार्थियों को महाविद्यालय ने परीक्षा विभाग की मदद से 2017 की ग्रीश्मकालीन परीक्षा में नकली परीक्षा प्रवेश पत्र जारी कर परीक्षा देने के लिए विद्यार्थियों को कहा गया था. जब विद्यार्थियों के रिजल्ट आए तो पता चला कि सभी विद्यार्थियों को नकली परीक्षा प्रवेशपत्र दिया गया है. यह गलती किसी आर की नहीं कॉलेज की होने का पता नागपुर विश्वविद्यालय चला तो कुलगुरु के आदेश पर कॉलेज के कॉमर्स संकाय के डीन देशपांडे के साथ एक कमिटी गठित कर जांच के आदेश दिए गए. जिसमें यह पता चला कि इसमें विद्यार्थियों की कोई भी गलती नहीं है. जिसके बाद यह आदेश दिया गया कि नवीरा महाविद्यालय के सभी 36 विद्यार्थियों के पेपर जांच कर उनका रिजल्ट लगाए जाए.

पिछले महीने की 22 तारीख को विश्वविद्यालय के कुलगुरु के निर्देश पर नवीरा महाविद्यालय को पत्र जारी कर विद्यार्थियों का रिजल्ट जारी करने के साथ परीक्षा फॉर्म जमा कर परीक्षा प्रवेश पत्र प्राप्त करने के लिए कहा गया था. लेकिन महाविद्यालय व परीक्षा विभाग की सुस्त कार्यवाही के कारण अभी भी विद्यार्थियों को उनके परीक्षा प्रवेशपत्र नहीं मिले हैं. चिंता के कारण कुछ विद्यार्थियों का स्वास्थ्य भी बिगड़ गया और उन्हें अस्पताल में भर्ती भी होना पड़ा.

जिसके कारण एनएसयूआई के पदाधिकारियों और विद्यार्थियों ने परीक्षा भवन में प्रदर्शन और नारेबाजी की और परीक्षा नियंत्रक नीरज खटी का घेराव किया. इस दौरान खटी ने विद्यार्थियों को भरोसा दिलाया कि किसी भी विद्यार्थी का नुकसान नहीं होगा और जरूरत पड़ी तो विद्यार्थियों को उनके रिजल्ट के आधार पर परीक्षा प्रवेशपत्र दिया जाएगा. उन्होंने यह भी बताया कि अगर महाविद्यालय अपनी जिम्मेदारी निभाने में असफल भी रहता है तो भी परीक्षा विभाग की तरफ से महाविद्यालय की मान्यता रद्द करने का प्रस्ताव विश्वविद्यालय कुलगुरु के पास भेजा जाएगा.

एनएसयूआई के इस आंदोलन का नेतृत्व महासचिव प्रतीक कोल्हे व रोशन कुंभलकर ने किया. इस आंदोलन में मुख्य रूप से एनएसयूआई के प्रदेश सचिव अभिषेक सिंह, राष्ट्रीय प्रतिनिधि आशीष मंडपे, जिला अध्यक्ष आमिर नूरी, नीलेश कोढे, विनोद हजारे, सादाफ सोफी, नागेश गिर्रे, वैष्णवी भारद्वाज, गुंजन ठाकुर, समीक्षा सोमकुंवर, विजय बनवड़े, समीक्षा राघोरते, हिना सय्यद, निखिल श्रीरामे मौजूद थे.