Published On : Sat, Aug 12th, 2017

30 बच्चों की मौत पर विपक्ष ने माँगा CM योगी का इस्तीफा

ghulam-nabi-azad
नई दिल्ली:
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में महज 36 घंटे में 30 मासूमों की मौत ने प्रदेश सरकार और राज्य प्रशासन पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं. पिछली सरकारों पर ढुलमुल कार्यप्रणाली का आरोप लगाकर सत्ता में आई में बीजेपी के राज में लापरवाही से इतनी संख्या में बच्चों की मौत की घटना ने विपक्ष को भी हमलावर होने का मौका दे दिया है. राज्य में मुख्य विपक्षी सपा के साथ बसपा और कांग्रेस के बड़े नेताओं ने इस घटना पर दुख व्यक्त करने के साथ योगी सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं. विपक्ष के सारे नेता एकजुट होकर पूछ रहे हैं कि जब सीएम योगी ने तीन दिन पहले ही बीआरडी मेडिकल कॉलेज का दौरा किया था तो वहां इतनी बड़ी लापरवाही कैसे हुई? आइए जानें गोरखपुर अस्पताल हादसे पर विपक्ष के किस नेता ने क्या कहा?

कम से कम बच्चों की मौत पर तो झूठ न बोले योगी सरकार: पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, ‘बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई है. राज्य सरकार अपनी गलती सुधारने के बजाय झूठ बोलने में लगी है. गलती छुपाने के लिए परिजनों को बच्चों का शव देकर भगा दिया गया, मृतक बच्चों का पोस्टमार्टम तक नहीं हुआ है.’ अखिलेश यादव ने कहा कि दो दिन पहले योगी आदित्यनाथ ने मेडिकल कॉलेज का दौरा किया था तब उनके पास ऑक्सीजन की कमी का मामला सामने आया होगा फिर भी कोई एक्शन नहीं लिया गया। वहीं उन्होंने कहा कि अगर सीएम के दौरे के दौरान ऑक्सीजन की कमी की जानकारी नहीं दी गई तो ये और गंभीर मामला है.

झूठ छुपाने के बजाय दोषियों पर कार्रवाई करे सरकार: बसपा प्रमुख मायावती ने कहा, मासूमों की मौत के लिए यूपी सरकार जिम्मेदार है. मासूमों के परिजनों को न्याय दिलवाने के लिए हम आगे आए हैं. राज्य सरकार अपनी गलती छुपाने के बजाय दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने में अपनी ताकत लगाए.’

सीएम योगी तत्काल दें इस्तीफा: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कहने पर पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, आरपीएन सिंह, राज बब्‍बर और प्रमोद तिवारी गोरखपुर मेडिकल कॉलेज पहुंचे. गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘योगी सरकार की नाकामी और लापरवाही से ये दर्दनाक हादसा हुआ है. इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ समेत स्वास्थ्य मंत्री और अन्य जिम्मेदार लोगों को इस्तीफा दें.’

योगी सरकार बताए ऑक्सीजन के पैसे देने में क्यों हुई देरी: पूर्वांचल में कांग्रेस के बड़े नेता आरपीएन सिंह ने कहा, ‘योगी सरकार बताए कि आखिर ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए समुचित पैसे समय पर क्यों नहीं दिए गए?’

बैकफुट पर सत्ता पक्ष
केशव प्रसाद मौर्य: यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, ‘विपक्ष हड़बड़ी में है और प्रदेश की सरकार जनता की सेवा के लिए प्रतिबद्ध है. दोषियों के खिलाफ यूपी सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी.’


आशुतोष टंडन: यूपी सरकार के मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा, ‘सीएम योगी पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं, उन्होंने मुझसे और स्वास्थ्य मंत्री से जानकारी भी मांगी है. हमने गोरखपुर से लौटकर सीएम को पूरे मामले की रिपोर्ट देंगे.’

सिद्धार्थ नाथ सिंह: राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह जब घटना की समीक्षा बैठक में शामिल होने निकले तो उन्होंने कुछ भी बोलने से साफ मना कर दिया.

बच्चों की खातिर नोबेल पाने वाले ने घटना को बताया हत्या: बच्चों का बचपन संवारने की खातिर नोबेल पुरस्कार पाने वाले कैलाश सत्यार्थी ने कहा, बिना ऑक्सीजन के 30 बच्चों की मौत हादसा नहीं, हत्या है. क्या हमारे बच्चों के लिए आजादी के 70 सालों का यही मतलब है.’