Published On : Fri, Aug 6th, 2021
nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

गोंदिया: नागपुर का बालक स्टेशन में मिला

बिलख बिलख कर रो रहे असहाय बालक को रेलवे पुलिस ने सकुशल घर पहुंचाया

गोंदिया। एक दिन पहले नागपुर के जरिपटका थाना अंतर्गत आने वाले इलाके से भटके असहाय बालक को गोंदिया रेलवे पुलिस की मदद से सकुशल माता-पिता तक पहुंचा दिया गया।
तिरोड़ा स्टेशन पर बिलख-बिलख कर रो रहा बालक उम्र में छोटा होने की वजह से घर का एड्रेस और परिजनों का मोबाइल नंबर बता पाने में असमर्थ था जिसके कारण उसके परिजनों को खोजने में काफी मशक्कत करनी पड़ी , बावजूद इसके रेलवे पुलिस ने उसे सकुशल घर पहुंचाया ।

वाक्या कुछ यूं है कि…. ?
अपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने तथा आरोपियों पर गुप्त निगरानी रखने हेतु रेलवे सुरक्षा बल नागपुर के सहायक सुरक्षा आयुक्त एस.डी. देशपांडे के मार्गदर्शन तथा रेसुब पोस्ट गोंदिया के प्रभारी निरीक्षक के नेतृत्व में उपनि. उषा बिसेन, सउपनि. एस.बी.. थापा, प्रधान आरक्षक पी. दलाई, आर. रायकवार, सुभाष ठाकरे, नासीर खान की टीम गश्त में जुटी थी इसी दौरान उन्हें मंडल सुरक्षा नियंत्रण कक्ष नागपुर तथा स्टेशन मास्टर तिरोड़ा से यह जानकारी मिली कि, तिरोड़ा रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नं. 1 पर एक बालक असहाय रो रहा है।

जानकारी मिलते ही तत्काल एक्शन लेते हुए रेसुब की टीम तिरोड़ा रेलवे स्टेशन पहुंची जहां बालक अकेला था और वह बिलख-बिलख कर रो रहा था। रेसुब टीम ने प्रेमपूर्वक बालक से नाम पूछा जिसपर बालक ने अपना नाम सुजल बताते कहा- वह नागपुर का रहने वाला है और किसी अज्ञात लोगों के साथ घर से वह यहां पहुंच गया है, उसे न घर का पता याद है और ना ही परिजन का मोबाइल नंबर.. बस उसे इतना याद है कि, वह नागपुर के किसी समतानगर इलाके में ही रहता है।

उक्त बालक की देखरेख व सुरक्षा के मुद्देनजर उसे गोंदिया रेसुब पोस्ट लाया गया और जानकारी बाल कल्याण समिति गोंदिया को दी गई। साथ ही बालक के बताए गए पत्ते पर गुप्त सूत्रों को भेजकर बच्चे के संदर्भ में पूछताछ की गई आखिरकार उक्त बालक नागपुर के ही संत गजानंद नगर का निवासी होने की जानकारी पुलिस टीम के हाथ लगी तथा बच्चे के गुमशुदगी की रिपोर्ट भी जरीपटका पुलिस स्टेशन में अ.क्र. 484/2021 की धारा 363 के तहत 3 अगस्त को दर्ज पायी गई।

तत्पश्‍चात आरपीएफ पोस्ट गोंदिया स्टॉफ को बच्चे के साथ जरीपटका पुलिस स्टेशन भेजा गया जहां संपूर्ण कागजी कार्रवाई पश्‍चात सकुशल बालक को उसके माता-पिता के सुपुर्द किया गया।

इस तरह रेसुब गोंदिया की कर्तव्यनिष्ठा पूर्वक की गई कार्रवाई से गुम हुआ बालक अपने माता-पिता के पास सकुशल पहुंच गया और अपने बच्चे को पाकर माता-पिता भी प्रफुल्लित हो उठे और उन्होंने रेलवे सुरक्षा बल के इस सराहनीय कार्य हेतु आभार प्रकट किया।

रवि आर्य