Published On : Wed, May 19th, 2021

गोंदिया: प्रतिशोध की आग में झुलसकर ‘ मर्डर ‘

पुलिस ने 2 घंटे के भीतर हत्यारे को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाया

गोंदिया: इंतकाम की आग में झुलस रहा इंसान किसी भी हद तक जा सकता है ? आपसी पुरानी खुन्नस को लेकर प्रतिशोध की अग्नि में झुलस रहा एक युवक मौका मिलते ही वारदात के मकसद से घर से निकला और सामने वाले को ललकारते हुए उसके सिर पर दनादन लाठियों से प्रहार करने शुरू कर दिए , वार इतना जबर्दस्त था कि सामने वाले को संभलने का मौका ही नहीं मिला और रात के सन्नाटे के बीच गूंज रही चीखें खामोशी से दम तोड़ चुकी थी।

शहर के गांधी वार्ड इलाके में आज 19 मई बुधवार के तड़के 4.30 बजे पुरानी रंजिश के चलते एक युवक की लाठियों से पीट-पीटकर तथा पत्थर-ईंट से कुचलकर निर्मम हत्या कर दी गई।


इस मामले में गोंदिया शहर पुलिस ने 2 घंटे के भीतर ही आरोपी को गिरफ्तार कर उसे सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है।

पुलिस सूत्रों ने जानकारी देते बताया कि, आरोपी संतोष उर्फ पदु गोपाल बंसोड़ (21 रा. गांधी वार्ड जूना गोंदिया) का मौहल्ले में ही रहने वाले सुधीर रमेश सुर्यवंशी (37) के साथ कुछ समय पहले झगड़ा हुआ था।

इस झगड़े का बदला लेने के लिए वह प्रतिशोध की आग में जल रहा था इसी बीच आरोपी संतोष को 19 मई के सुबह सबेरे 4.30 बजे मौका मिलते ही उसनेे सुधीर सुर्यवंशी पर लाठियों से दनादन वार किए तथा पत्थर और ईंट से कुचलकर उसे मौत के घाट उतार दिया।

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस प्रशासन में खलबली मच गई तथा आरोपी को पकड़ने हेतु जांच शुरू कर टीमें रवाना की गई। मात्र 2 घंटे के भीतर ही हत्यारे आरोपी संतोष बंसोड को धर दबौच लिया गया ।

इस संदर्भ में फिर्यादी श्रद्धा सुर्यवंशी की शिकायत पर गोंदिया शहर थाने में धारा 302 के तहत हत्या का जुर्म दर्ज कर आरोपी संतोष को न्यायलय में पेश किया गया जहां से उसे 20 मई तक पुलिस रिमांड पर भेजा गया है।

पुलिस की मानें तो आरोपी संतोष पर पहले भी विभिन्न थानों में 5 मुकदमे दर्ज हैं , बहरहाल वह हत्या के संगीन जुर्म में हवालात की हवा खा रहा है।

उक्त कार्रवाई पुलिस अधीक्षक विश्‍व पानसरे, अपर पुलिस अधीक्षक अशोक बनकर, उपविभागीय पुलिस अधिकारी जगदीश पांडे के मार्गदर्शन में शहर पुलिस निरीक्षक बनसोडे, सहायक पुलिस निरीक्षक भुजबल, उपनिरीक्षक मोरे, सहायक उपनि. थेर, पो.हवा सुजित हलमारे, पो.ना सुबोध बिसेन, ओमेश मेश्राम, संतोष बोपचे, प्रमोद चौहान, प्रकाश गायधने, श्याम कोरे , संतोष भेडारकर, पोसि छगन विठ्ले, विकास वेदक की ओर से की गई।

रवि आर्य