Published On : Mon, Nov 4th, 2019

गोंदियाः रेलवे रिजर्वेशन टिकटों की कालाबाजारी का पर्दाफाश

गोंदिया: दीपावली और छठ पर्व नजदीक आते ही गोंदिया से यूपी, बिहार जाने वाले यात्रियों की भीड़ बढ़ने के साथ ही रिजर्वेशन टिकटों की कालाबाजारी भी शुरू हो जाती है।

आलम यह है कि, घंटों आरक्षण खिड़की पर लाइन में लगने के बावजूद आम लोगों को टिकट नहीं मिलता, वहीं गोंदिया रेलवे स्टेशन के आसपास ट्रैवल एजेंटों के दफ्तर से लेकर जिले की आठों तहसील में टिकट के दलालों का जाल बिछा हुआ है, जो अपनी सेटिंग ऊपर तक होने की बात कहते हुए कंफर्म टिकट दिलाने का दावा करते है।

७ स्लीपर टिकटों के साथ दलाल गिरफ्तार
सोमवार ४ नवंबर को रेलवे पुलिस का खुफिया तंत्र काम कर गया। मुखबिर से मिली पुख्ता जानकारी के बाद मंडल सुरक्षा आयुक्त बिलासपुर के मार्गदर्शन एंव मंडल सुरक्षा आयुक्त नागपुर के निर्देशन में गोंदिया रेसुब के निरीक्षक एस.एस. दत्ता एंव अपराध शाखा रेसुब नागपुर की संयुक्त टीम द्वारा गोंदिया जिले के अर्जुनी मोरगांव तहसील के बाजार चौक स्थित गणराज इंटर प्राइजेस एंड मल्टी सर्विसेस नामक दुकान पर छापामार कार्रवाई की गई।

छापामारी के दौरान एक व्यक्ति जिसका नाम अमित (२९) है उसके दुकान में मौजूद कम्प्यूटर को जब पुलिस टीम ने खंगाला तो ३ पर्सनल आईडी पाए गए और इन पर्सनल आईडी के माध्यम से अवैध तौर पर आरक्षित टिकटों की कालाबाजारी का कार्य किया जा रहा था।

पुलिस ने मौके से ७ नग आरक्षित ई-टिकट बरामद किए तथा मौके पर मौजुद गवाहों के समक्ष जब्ती पंचनामा पत्र तैयार कर दुकान से १ कम्प्यूटर, एसेसरीज, १ मोबाइल आदि इन इलेक्ट्रानिक उपकरणों का अनुमानित मुल्य २८,९१२ रूपये आंका गया है, इसे हस्तगत किया। पुलिस के मुताबिक उस व्यक्ति ने पर्सनल आईडी पर आरक्षित टिकटों की कालाबाजारी का कार्य स्वीकार किया। आगे की कानूनी कार्रवाई हेतु रेसुब बाहरी चौकी वड़सा के उपनिरीक्षक हरबंश को जांच हेतु सपोर्ट किया गया।

उक्त छापामार कार्रवाई प्रधान आरक्षक एस.एस. गेडाम, आर.सी. कटरे, अपराध शाखा दल के आरक्षक प्रदीप तथा नागपुर एंव थाना अर्जुनी बल के पुलिस सदस्यों की मौजुदगी में की गई।

रवि आर्य