Published On : Tue, May 4th, 2021

गोंदिया-भंडारा: वित्तीय संकट से जूझ रहे किसानों को राहत

धान का बकाया चुकाता करने हेतु 312 करोड़ का फंड उपलब्ध

गोंदिया/भंडारा : जिला विपणन महासंघ ( जिला मार्केटिंग फेडरेशन ) के सरकारी धान खरीदी केंद्रों पर अपनी फसल बेचने वाले गोंदिया और भंडारा जिले के किसान अपने अनाज के चुकारे ( पेमेंट ) को लेकर चक्कर लगा रहे थे और तीन माह से थक हार चुके थे।
परिणाम स्वरूप वित्तीय संकट के चलते किसान दुविधा में थे इसे ध्यान में रखकर सांसद प्रफुल्ल पटेल ने उपमुख्यमंत्री अजीत पवार और नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल के साथ किसानों की बकाया राशि के मुद्दे पर चर्चा की तथा धन मुहैया कराने को कहा , लिहाज़ा 3 मई सोमवार को डिस्ट्रिक्ट मार्केटिंग फेडरेशन इसे धान का बकाया चुकता करने हेतु 312 करोड़ का फंड उपलब्ध हुआ है।

राज्य सरकार ने भंडारा जिले के लिए 170 करोड़ 70 लाख और गोंदिया जिले के लिए 142 करोड 3 लाख की निधि ,जिला मार्केटिंग फेडरेशन के खाते में सोमवार को जमा की है।

जिसके बाद आज मंगलवार 4 मई से किसानों के बैंक खातों में रकम जमा होना शुरू हो गया है।

गौरतलब है कि खरीफ के दौरान दोनों जिले के 1.5 लाख से अधिक किसानों ने सरकारी गारंटी केंद्र (शासकीय हमीभाव केंद्र ) पर अपनी धान फसल बेची थी लेकिन अपने अनाज के भुगतान राशि (चुकारे ) को लेकर विगत 3 माह से किसान दफ्तर के चक्कर लगाकर थक चुके थे।

यह मामला पूर्व विधायक राजेंद्र जैन , विधायक मनोहर चंद्रिकापुरे द्वारा संसद प्रफुल्ल पटेल के संज्ञान में लाया गया , उन्होंने 27 अप्रैल को उपमुख्यमंत्री अजीत पवार और खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की और तत्काल धन जारी करने की मांग की थी जिस पर उन्होंने फंड उपलब्ध कराने का वादा किया था।

इसी को पूरा करते हुए सरकार ने सोमवार को गोंदिया और भंडारा जिले के लिए 312 करोड़ रुपए जारी किए हैं।

धान बोनस राशि जल्द ही आ जाएगी ?
महा विकास आघाड़ी सरकार ने सरकारी समर्थन मूल्य वाले धान खरीदी केंद्रों पर अपनी फसल बेचने वाले किसानों को 700 रूपए प्रति क्विंटल दर से 50 क्विंटल तक प्रोत्साहन भत्ता ( बोनस ) देने की घोषणा की थी किंतु फसल बेचे 5 माह से अधिक का वक्त बीत चुका है किंतु किसानों के बैंक खाते में बोनस की रकम अब तक जमा नहीं हुई है इस संबंध में सांसद प्रफुल्ल पटेल ने उपमुख्यमंत्री तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री के साथ चर्चा की है।
बोनस की राशि भी जल्दी किसानों के खाते में आ जाएगी ऐसा आश्वासन दिया गया है।

रवि आर्य