Published On : Tue, May 28th, 2019

किसानो को खाद के साथ फसल कर्ज भी दें: पालकमंत्री बावनकुले

नागपुर: पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा कि ,खेती में मशीन के माध्यम से कृषि उत्पादन बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। किसानो को मांग के अनुसार बीज, खाद व फसल कर्ज उपलब्ध कराने के निर्देश पालकमंत्री ने अधिकारियो को दिए। बचत भवन में हुई खरीप फसल की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता पालकमंत्री बावनकुले ने की। 2018 -19 कृषि मौसम में खरीप फसल का नियोजन किया गया। इस दौरान जिला परिषद् अध्यक्ष निशा सावरकर, विधायक सुनील केदार, समीर मेघे, मल्लिकार्जुन रेडी, सुधीर पारवे, गिरीश व्यास, जिलाधीश अश्विन मुदगल, प्रभारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी अंकुश केदार, व समबधित विभाग वरिष्ठ अधिकारी उपस्तित थे. खरीप फसल के लिए जिले को 979 करोड़ 55 लाख का टारगेट रखा गया है। उसमे केवल 9 फीसदी कर्ज वितरित हुवा है। राष्टीयकृत बैंको ने टारगेट का 68 करोड़ 11 लाख तो जिल्हा मध्यवर्ती बैंक की तरफसे 21 करोड़ 75 लाख, ग्रामीण बैंको ने 4 करोड़ 29 लाख का कर्ज वितरित किया है। सभी बैंको को कर्ज वितरण का टारगेट पूरा करने के निर्देश इस अवसर पर दिये गए. इसी प्रकार खरीप फसल का नियोजन करते समय कपास 22 हजार 500 हेक्टर में, सोयाबीन 1 लाख हेक्टर में, चावल 94 हजार हेक्टर, तुवर 6 हजार 500 हेक्टर में नियोजन किया गया.

खरीप मौसम में 1 लाख 43 हजार 450 मीट्रिक टन खाद का नियोजन किया गया। जिसमे से 51 हजार 371 मीट्रिक टन खाद का सग्रहण उपलब्ध है। गावो में किसानो को जमीन की स्वास्थ पत्रिकाएं बांट कर फसल उत्पादन पर मार्गदर्शन करना है। गुलाबी बोन्ड इल्ली से कपास का नुकसान हुवा है। काटोल व नरखेड़ के किसानो को तुरंत क्षतिपूर्ण करने के निर्देश बावनकुले ने इस अवसर पर दिए। जिल्हे में पिने के पानी की किलत वाले 1 हजार 284 गावो के लिए कृति प्रारूप तैयार किया गया है। प्रारूप में सुझाई गई 2 हजार 338 उपाय योजनाओ में से नल योजना दुरुस्ती, कुएगहरे करना, कुए से मलबा निकलने जैसी उपाययोजना पर 30 जून के पहले काम पूरा करने के निर्देश पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने दिए है।