Published On : Wed, Nov 10th, 2021

1 दिसंबर से टीके के पहले डोज़ के लिए देना होगा शुल्क

नागपुर: शहरवासिकों को एक दिसंबर से कोविड वैक्सीन का पहला डोज़ लेने के लिए शुल्क का भुगतान करना होगा। नागपुर महानगरपालिका के सभी टीकाकरण केंद्रों पर टीके का पहला डोज़ लेने के लिए नागरिकों को शुल्क का भुगतान करना होगा। नागपुर शहर के 2.7 लाख नागरिकों ने अब तक कोविड वैक्सीन का पहला डोज़ नहीं लिया है। नागपुर महानगरपालिका प्रशासन को डर है कि इन लोगों की वजह से कहीं दोबारा कोरोना वायरस का संक्रमण न फैले।

2.7 लाख नागरिकों ने नहीं ली अब तक वैक्सीन:
नागपुर महानगरपालिका क्षेत्राधिकार के अंतर्गत 18 प्लस आयु वर्ग के नागरिकों की जनसंख्या 19 लाख 63 हजार है। इनमें से 16 लाख 92 हजार नागरिकों ने वैक्सीन का पहला डोज़ लिया है। शेष 2.7 लाख नागरिक अभी तक टीकाकरण केंद्रों में नहीं गए हैं। मनपा प्रशासन को डर है कि यह 2 लाख 70 हजार नागरिक कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर का कारण बन सकते हैं।

संबंधित समुदायों के धर्मगुरुओं के माध्यम से जन जागरूकता अभियान:
साथ ही, अगर तीसरी लहर का आगमन होता है, तो मनपा प्रशासन को संदेह है कि जिन 2.7 लाख नागरिकों ने टीका नहीं लगाया है, उनमें संक्रमण का खतरा सबसे अधिक होगा। इसलिए मनपा प्रशासन ने तीसरी लहर को रोकने हेतु इन दो लाख 70 हजार नागरिकों का टीकाकरण करने की आवश्यकता को समझते हुए 30 नवंबर तक इन नागरिकों को टीका लगाने के लिए एक विशेष जन जागरूकता अभियान शुरू किया है। मनपा प्रशासन ने यह भी घोषणा की है कि एक दिसंबर के बाद वैक्सीन का पहला डोज़ लेने के लिए आने वाले नागरिकों से शुल्क लिया जाएगा। 2.7 लाख गैर-टीकाकृत नागरिकों में उनके संबंधित समाज के धर्मगुरुओं के माध्यम से जागरूकता पैदा की जाएगी और उन्हें टीकाकरण के लिए तैयार किया जाएगा।