Published On : Sat, Apr 6th, 2019

PM मोदी ने वर्धा में दिया नफ़रत फैलाने वाला भाषण? EC ने अधिकारियों से मांगी रिपोर्ट

लोकसभा चुनाव का रण तेजी से आगे बढ़ रहा है. ऐसे में आदर्श आचार संहिता के कथित उल्लंघन को लेकर भी मामले आ रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महाराष्ट्र के वर्धा में दिए गए एक भाषण को लेकर चुनाव आयोग में शिकायत हुई है. कांग्रेस की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र के निर्वाचन अधिकारियों से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है.

कांग्रेस का आरोप है कि पीएम मोदी ने सोमवार को वर्धा में रैली के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के वायनाड (केरल) से चुनाव लड़ने पर टिप्पणी की थी. उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी इसलिए वायनाड गए, क्योंकि वहां हिंदू अल्पसंख्यक हैं और क्षेत्र मुस्लिम बहुल है.

दरअसल, पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस पर वोट-बैंक की राजनीति करने के लिए ‘हिंदू आतंक’ शब्द को उछालने पर कांग्रेस पर हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि अदालत के हालिया फैसले से वे (राहुल गांधी) डर गए हैं कि हिंदू उनको सबक सिखाएंगे. इसलिए उन्हें हिंदू बहुल संसदीय क्षेत्रों में खड़े होने का साहस नहीं है. वो चुनाव के लिए अन्य अल्पसंख्यक बहुल सीटों की ओर दौड़ रहे हैं.

कांग्रेस ने वर्धा में मोदी के भाषण के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की थी. कांग्रेस ने कहा था कि प्रधानमंत्री के बयान नफरत पैदा करने वाले और विभाजनकारी हैं. एक सूत्र ने शुक्रवार को कहा, ‘पीएम मोदी के इस भाषण को लेकर महाराष्ट्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी गई है.’