Published On : Thu, Feb 13th, 2020

गोंदियाः डिजिटल शिक्षा देगा बेहतर कल अच्छी शिक्षा और संस्कार करेगी न.प. विद्यार्थियों के सपने साकार

गोंदिया : गोंदिया नगर परिषद द्वारा संचालित ५ हाईस्कूल तथा १६ प्राइमरी स्कूलों में विद्यार्थियों की गिरती संख्या को देखते हुए जिलाधिकारी डॉ. कादंबरी बलकवड़े ने अब एक नया कदम उठाया है।

गोंदिया नगर परिषद की सभी २१ स्कूलों को डिजिटल तकनीक से जोड़ने का फैसला लेते हुए आमसभा और स्थाई समिति से प्रस्ताव पास होने के बाद नगर परिषद के सारे स्कूल डिजिटल पाठ्यक्रम से जोड़े जा रहे है। न.प. शिक्षण सभापति मौसमी परिहार (सोनछात्रा) द्वारा बेहतर साक्षरता की दिशा में उठाए गए इस कदम से विद्यार्थियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है।

गौरतलब है, सरकारी स्कूलों को डिजिटलाइजेशन करने की दिशा में जिला प्रशासन और साक्षरता विभाग की ओर से काम शुरू कर दिया गया है। इसके तहत शहर के सरकारी स्कूलों में जहां इंटरनेट की सुविधा बेहतर है, वहां डिजिटल तकनीक का अधिक से अधिक उपयोग और लाभ उठाने के निर्देश दिए गए है।

२१ स्कूलोंं के ४५ क्लास रूम में प्रोजेक्टर, स्क्रीन, सीपीयू, सॉफ्टवेअर लगने शुरू हुए

परियोजना के संदर्भ में जानकारी देते न.प. शिक्षण सभापति मौसमी परिहार (सोनछात्रा) ने बताया, गोंदिया नगर परिषद के स्कूलों का डिजिटलाइजेशन किया जाए एैसा अनुरोध तत्कालीन पालकमंत्री व विधान परिषद सदस्य डॉ. परिणय फुके से किया गया और इस दिशा में गोंदिया जिलाधिकारी डॉ. कादंबरी बलकवड़े ने भी सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाते हुए इस प्रपोजल को मंजूरी दी।

१४ वें वित्त आयोग निधि से ७२ लाख रूपये मंजूर किए गए, जे.एम. पोर्टल से दिसंबर २०१९ में निविदा जारी हुई अब जिस कंपनी को टेंडर मिला है, उसने नगर परिषद की २१ स्कूलों के ४५ क्लास रूम में १ प्रोजेक्टर, १ स्क्रीन, सीपीयू, सॉफ्टवेअर एैसे हर स्कूलों के २ क्लास रूम में डिजिटल तकनीकी उपकरण इंस्टॉल करने शुरू कर दिए है। जिस स्कूल में विद्यार्थी संख्या ज्यादा है, वहां तीन क्लास रूम में उपकरण लगेंगे।

न.प. शिक्षकों हेतु डिजिटल ट्रेनिंग प्रोग्राम तय
नगर परिषद की २१ स्कूलों में २१०० से अधिक विद्यार्थी पढ़ते है तथा टीचर स्टॉफ लगभग ६० है, क्योंकि अब पाठ्यक्रम को डिजिटल करने का फैसला लिया गया है, लिहाजा स्कूल टीचरों के लिए भी ट्रेनिंग प्रोग्राम १४ फरवरी से शुरू किए जाने की योजना है, जहां कंपनी के लोग टीचरों को सॉफ्टवेअर की जानकारी देते हुए ई-कंटेट का उपयोग कैसा किया जाए तथा थीम्स, ई-लायब्रेरी, ई-बुक्स, ई-कोर्सेस, ईवेन्ट के तहत जानकारी देंगे, यह शिक्षकों और विद्यार्थियों को दक्ष करने में मददगार साबित होगा।

२१ स्कूलों की बदली तस्वीर

प्रिंसीपल रह चुकी मौसमी परिहार गत वर्ष शिक्षण सभापति चुनी गई, लिहाजा सबसे ज्यादा ध्यान उन्होंने नगर परिषद के स्कूलों की दशा सुधारने पर केंद्रित किया। दशकों से जो इमारतें रंगरोगन को तरस रही थी, २१ लाख रूपये खर्च कर अब उनका रंग-रोगन किया गया है। छात्राओं की सुरक्षा हेतु गर्ल्स स्कूल जैसी इमारत में सीसीटीवी कैमरे शीघ्र लगाए जाएंगे। अब नगर परिषद स्कूलों में पढ़नेवाली छात्राएं बेहतर सुविधाओं को देख बेहद खुश है।

रवि आर्य