Published On : Thu, May 19th, 2022

करोड़ों खर्च के बावजूद नदी-नाले की सफाई अधूरी

Advertisement

नागपुर -मानसून सीजन से पहले नागपुर महानगरपालिका ने शहर में नदियों और नालों की सफाई शुरू कर दी है. उम्मीद है कि इस साल जल्द ही मानसून की बारिश आएगी। बावजूद मनपा की सफाई अभी अधूरी है।

शहर के कुछ हिस्सों में सिर्फ सफाई की औपचारिकताएं ही पूरी की जा रही हैं। नालों की सफाई के काम को लेकर संदेह जताया जा रहा है क्योंकि सफाई के बाद भी कीचड़ और कचरा पड़ा रहता है. उल्लेखनीय है कि इस पर अब तक 18 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं।

Advertisement

मनपा ने एक माह पूर्व नालों की सफाई शुरू की,फिरअब वह नदियों की सफाई करने लगा। बताया जाता है कि अब तक नाले की सफाई पूर्ण हो चुकी है। लेकिन शहर के कुछ हिस्सों में नाले की सफाई आज भी जारी हैं. हालांकि अभी भी कुछ इलाकों में सफाई नहीं के बराबर हुई हैं.

गंगाबाई घाट के पास का नाला अभी भी कीचड़ भरा है और पानी नहीं निकल रहा है। इसके अलावा कचरा है। गंगाबाई घाट नाला से सटे भूतेश्वरनगर, शिवाजीनगर, नंदजीनगर की बस्तियाँ हैं। मानसून के दौरान इस नाले का पानी इन बस्तियों में प्रवेश करता है। इस साल जल्द ही मानसून आने की खबर के साथ ही नागरिकों ने नाले की तत्काल सफाई की मांग की है.

इसके अलावा पश्चिम नागपुर में डब्ल्यूसीएल के पास विकासनगर के निवासियों ने बताया कि कुछ दिन पहले नालों की सफाई की गई थी. हालांकि क्षेत्रवासियों का कहना है कि नाले में भारी मात्रा में कचरा और मलवा जमा है. इसलिए मनपा द्वारा केवल सफाई न करने की औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं और बारिश के मौसम में नागरिकों को बड़े संकटों से जूझना पड़ सकता है.

शहर में 227 नाले हैं। मनपा का दावा है कि इन नालों की सफाई करा दी गई है। नालों की सफाई के बाद नदियों की सफाई भी शुरू की गई। लेकिन गंगाबाई घाट के पास का नाला और विकासनगर में नाला की साफ़-सफाई ने प्रशासन की पोल खोल कर रख दी. कुछ हद तक नाले की सफाई की गई। हालांकि अभी तक कई इलाकों में मनपा नालों तक नहीं पहुंच पाया है.

नाग नदी 17.4 किमी लंबी, पीली नदी 16.4 किमी लंबी और पोहरा नदी 13.12 किमी लंबी है। तीन नदियों के कुल 46.92 किमी की सफाई की जा रही है। इसके तहत अब तक 13.67 किमी क्षेत्र की सफाई की जा चुकी है और 17116.87 घन मीटर कीचड़ को निकाला जा चुका है।

बारिश पूर्व तैयारी में कमी
नगर निगम ने अभी तक नालों की सफाई नहीं की है। शहर के कुओं की अभी तक सफाई नहीं हुई है। साथ ही नदियों और नालों की सफाई का काम भी पूरा नहीं हो पाया है. शहर के जागरूक नागरिकों का कहना है कि इसलिए आने वाला मानसून शहरवासियों के लिए अड़चन भरा हो सकता है।

नागरिकों का मानना है कि मनपा को बरसात के मौसम से पहले नाले की सफाई करने की जरूरत है। मनपा कर्मचारियों को एक बार फिर निरीक्षण करने की जरूरत है। विकासनगर नाला की सफाई सिर्फ खानापूर्ति की गई है। मामला गंभीर है और मानसून के दौरान नागरिकों के घरों में पानी रिसने की संभावना है। मनपा को एक बार फिर से साफ करना चाहिए।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement