Published On : Wed, Jul 11th, 2018

फसल कर्ज माफ नहीं हुआ तो किसान ने मुख्यमंत्री के ही नाम कर दी खेत जमीन

Advertisement

अमरावती: अब यह आम राय बनती जा रही है कि किसान सरकार से कर्ज माफी के लिए मुंह ताकता रहता है.

लेकिन कर्ज से हताश और खेती में लगतार हो रहे घाटे से तंग आनेवाले विदर्भ के अमरावती जिले के एक किसान ने सरकार से कर्ज की आस छोड़ अपनी रोजी रोटी के आधार खेत को ही मुख्यमंत्री के नाम कर दिया.

Advertisement
Advertisement

अमरावती के अल्प भूमि धारक किसान प्रमोद कुटे ने अपनी खेत जमीन को स्टांप पेपर पर सीधे मुख्यमंत्री के नाम कर दी. बताया जा रहा है कि फसल कर्ज को नियमित चुकानेवाले किसान प्रमोद के ऊपर 71 हजार रुपए का कर्ज बकाया था.

इस कर्ज की रकम को माफ करने के लिए उसने राष्ट्रपति से लेकर मुख्यमंत्री, सचिव, कृषि विभाग के अधिकारियों तक आवेदन किया. लेकिन उसका कर्ज माफ नहीं हो पाया. किसानी में हर साल किसी भी तरह का फायदा न मिलने से परेशान होकर उसने खेती राज्य सरकार के नाम कर दी.

By Narendra Puri

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement