Published On : Tue, Sep 7th, 2021

कोरोना की तीसरी लहर ने दी दस्तक

* प्रशासन की तैयारियां शुरू, आपदा प्रबंधन समिति की बैठक हुई
* कोरोना स्थिति की समीक्षा की गई
* ग्रामीण व शहरी हिस्सों में उपायों की ली जानकारी
* टेस्टिंग और विश्लेषण गंभीरता से करने के दिए निर्देश

नागपुर: जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग इस नतीजे पर पहुंचा है कि जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर दस्तक दे चुकी है। प्रशासन ने इस स्थिति से निपटने के लिए युद्धस्तर पर काम करना शुरू कर दिया है। खासकर यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि गणपति एवं अन्य त्योहारों के दौरान इस संभावित लहर से अधिक लोगों में संक्रमण न फैले।
इसी के मद्देनजर मंगलवार को छत्रपति सभागृह में जिलाधिकारी विमला आर. ने नागपुर महानगरपालिका आयुक्त डॉ. राधाकृष्णन बी., मुख्य कार्यकारी अधिकारी योगेश कुंभेजकर, अपर पुलिस निरीक्षक ग्रामीण राहुल माकणीकर, उपायुक्त विशेष शाखा बसवराज तेली एवं अन्य अधिकारियों की उपस्थिति में एक समीक्षा बैठक बुलाई।

इस अवसर पर निवासी जिलाधिकारी जगदीश कातकर एवं आपदा प्रबंधन अधिकारी अंकुश गावंडे उपस्थित थे। जिलाधिकारी विमला आर. ने कहा कि प्रतिबंधों में ढील देने के कारण कई नागरिक कोविड सुरक्षा नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। त्योहार के मद्देनजर बड़ी संख्या में लोग बाजार और बाहर से खरीदारी कर रहे हैं। नतीजतन, प्रशासन ने गौर किया कि संक्रमण की रफ़्तार में लगभग दो गुना बढ़ोतरी हुई है।

हाल ही में पालकमंत्री डॉ. नितिन राउत की अध्यक्षता में संभागायुक्त कार्यालय में बुलाई गई बैठक में अगले दो-तीन दिनों में जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में व्यापारियों, उद्यमियों एवं अन्य नागरिकों से विचार- विमर्श करने का निर्णय लिया गया। लापरवाही के कारण सभी ने दूसरी लहर के भयानक परिणाम देखें हैं। इसकी पुनरावृत्ति को रोकने के लिए नागरिकों को प्रशासन का साथ देते हुए नियमों का पालन करने की आवश्यकता है। नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए प्रतिबंध लागू करना अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। पहली और दूसरी लहरों के दौरान पाया गया कि त्योहारों के समय संक्रमण की रफ़्तार में बढ़ोतरी होती है।

मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. ने कहा कि गणेशोत्सव के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के बावजूद नागरिकों की लापरवाही के चलते तीसरी लहर को रोकना बेहद जरूरी है, लेकिन इस तरह की सख्त पाबंदियां लागू करने से पहले सभी प्रभावित वर्गों की समस्याओं पर चर्चा की जाएगी। सादगी से गणेशोत्सव मनाने के लिए प्रशासन ने हाल ही में दिशा-निर्देश जारी किए हैं। उपायुक्त विशेष शाखा बसवराज तेली ने सड़क मार्ग से यात्रा करने वाले अंतर्राज्यीय यात्रियों का कोरोना टेस्ट कराने का सुझाव दिया।

व्यापारिक संघों, होटल व्यवसायियों और अन्य लोगों के साथ जल्द ही जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक होगी। जिन नागरिकों की दूसरी डोज लेने की प्रक्रिया किसी कारण से लंबित है, उन्हें दूसरा डोज प्राथमिकता से और अतिशीघ्र लेना चाहिए। साथ ही नागरिकों के टीकाकरण के लिए वैक्सीन का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध है और प्रशासन ने सभी नागरिकों के टीकाकरण पर जोर दिया है।