Published On : Fri, Nov 19th, 2021

CNG पाइपलाइन नागपुर के निकट पहुंची

– निकला शहर में जाल बिछाने का TENDER,15 दिसंबर 2021 भाग लेने की अंतिम तिथि और 20 दिसंबर 2021 को खुलेगा टेंडर

नागपुर – केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के प्रयासों से नागपुर शहर/जिले को सस्ता और प्रदूषणरहित ईंधन मिले इसलिए केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने हाल ही में शहर/जिले में CNG की पाइपलाइनों का जाल बिछाने के लिए TENDER जारी किया।इनके ही प्रयासों से नागपुर जिले के आसपास CNG की ट्रंक लाइन आ चुकी हैं.

नागपुर जिले के अलावा इसी टेंडर के तहत


बुलढाणा,नांदेड़,परभणी,अकोला,वाशिम,यवतमाळ,चंद्रपुर,वर्धा,भंडारा,गोंदिया और गढ़चिरोली जिले के लिए भी CNG पाइपलाइन बिछाई जाएगी।इस टेंडर में देश की दिग्गज कंपनियां भाग ले रही,जिसमें भाग लेने का अंतिम दिन 15 दिसंबर 2021 और टेंडर 20 दिसंबर 2021 को खोला जायेगा।

उक्त टेंडर सफलतापूर्वक और समय पर खुला तो काफी सस्ता ईंधन स्थानीय नागरिकों और व्यवसायिकों को मिलने लगेगा।इसका असर यह होगा कि वाहनों का महंगे डीजल/पेट्रोल से CNG में तब्दील करने का सिलसिला बढ़ जाएगा।इसके साथ ही ढंग से और समय पर शहर व जिले में CNG की जाल बिछ गई तो घरों में उपयोग होने वाला गैस का खर्च आधा से भी कम जो जाएगा।

CNG की उक्त TENDER पूर्ण होने के बाद उसे समय पर ग्राहकों को सेवा देने के क्रम में इससे सम्बंधित कलपुर्जों ने निर्माण/खरीद/बिक्री क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर भी उत्पन्न होगे।

याद रहे कि आज भी नागपुर में CNG की बस/कार/ऑटो आदि चल रही,इसके लिए RAWMATT नामक कंपनी ने बेड़ा उठाते हुए 3 पंप ही नहीं स्थापित किये बल्कि इन पम्पों के लिए गुजरात से मांग के अनुरूप CNG की टैंकर मंगवा रहे.RAWMATT ने CNG जैसे प्रदुषण रहित ईंधन को बढ़ावा देने के लिए न सिर्फ CNG किट उपलब्ध करवा रहे बल्कि किट लगाकर देने की जिम्मेदारी भी उठा रहे.

उल्लेखनीय यह है कि मनपा प्रशासन ने भी CNG का महत्त्व समझ ‘आपली बसों के बेड़े में पुरानी हो चुकी बसों को CNG में तब्दील करने का करार RAWMATT से किया था.इस क्रम में 70 बसों और कुछ वाहनों को CNG में CONVERT किया जा चूका हैं.वे सतत शहर भर में तय मार्गों पर दौड़ रही हैं.

170 पुरानी बसों को CNG किट तत्काल लगे

मनपा परिवहन विभाग के अधीनस्त JNNURM के तहत मिली 240 बसों को CNG में तब्दील किये जाने का निर्णय लिया गया था,जिसमें से सिर्फ 70 बसें ही तब्दील हो पाई.शेष 170 बसें को अगर मार्च 2022 से जुलाई 2022 के मध्य CNG में तब्दील नहीं किया गया तो उन्हें शक्ति से RTO के निर्देश पर मनपा परिवहन विभाग आपली बस के बेड़े से हटा देगी।ऐसे में मनपा की आपली बसों के बेड़े में मात्र 265 बसें शेष रह जाएगी,शेष 170 नए बसों की क्रमवार खरीदी करनी होगी।

CNG पाइपलाइन का जाल बिछा तो बढ़ेगी CNG बसें

केंद्र सरकार के सकारात्मक पहल पर सही समय पर CNG पाइपलाइन बिछाने की टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद नियत समय पर पाइपलाइन का जाल शहर/ग्रामीण में बिछ गया तो आपली बसों के बेड़े में क्रमवार CNG बसों की संख्या में इजाफा हो सकता हैं,जो मनपा हिट में लाभकारी साबित हो सकता हैं.

राजीव रंजन कुशवाहा (rajeev.nagpurtoday@gmail.com)