Published On : Thu, Jul 2nd, 2020

अटल पेंशन योजना, ईपीएफ, एटीएम, मिनिमम बैलेंस और किसान सम्मान निधि योजना में बदलाव

नई दिल्ली/नागपुर : कल १ जुलाई था। कल से कई नियम बदल रहे हैं और आपके लिए ५ सुविधाएं बंद कर दी गई । इस बदलाव के बाद आम लोगों को मिलने वाली मोहलत या सुविधा कम हो जाएगी और जेब पर बोझ बढ़ेगा।

अगर आप अटल पेंशन योजना से जुड़े हैं तो आपको किस्त पर मिली मोहलत की डेडलाइन खत्म हो गई है। दरअसल, कोरोना संकट की वजह से सरकार ने अप्रैल महीने में ऑटो डेबिट की सुविधा को रोक दिया था। ऐसे में लोगों के पैसे बैंक अकाउंट से नहीं कट रहे थे। अब इस सुविधा की मियाद पूरी होने की वजह से एक बार फिर ऑटो डेबिट के जरिए किस्त में कटौती होगी।

कोरोना संकट में कैश की किल्लत दूर करने के लिए सरकार ने एक नियम में बदलाव किया था। इस बदलाव के तहत कोई भी उपभोक्ता अपने ईपीएफ खाते के ७५ फीसदी राशि या ३ महीने की बेसिक सैलरी (बेसिक+डीए) में से जो कम हो, उतनी राशि निकाल सकता है। क्लेम करने पर खाते में तीन दिन के भीतर पैसे आ जा रहे थे। हालांकि, ये सुविधा सिर्फ तीन महीने के लिए थी। मतलब इसकी मियाद कल ३० जून को खत्म हो गई है। अब आज १ जुलाई से इस सुविधा के जरिए अप्लाई नहीं किया जा सकेगा।


इसी तरह बीते मार्च महीने में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि अगले तीन महीने तक एटीएम से पैसे निकालने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा। इसका मतलब यह है कि आप किसी भी बैंक से जितनी बार चाहें उतनी बार, जितना चाहें उतनी रकम निकाल सकते हैं। लेकिन इस सुविधा की मियाद ३० जून को पूरी हो गई है। बता दें कि सामान्य तौर पर दूसरे बैंक के एटीएम से एक निश्चित संख्या तक ही पैसे निकाले जा सकते हैं, उसके बाद निकासी पर चार्ज लगता है। इसी तरह, निर्मला सीतारमण ने मार्च महीने में कहा था कि अगले तीन महीने तक बैंक मिनिमम बैलेंस ना रखने पर कोई पेनाल्टी नहीं लगाएंगे। अब इस राहत की भी मियाद पूरी हो गई है। देश के अधिकतर निजी और सरकारी बैंक एक बार फिर मिनिमम चार्ज वसूलेंगे। हालांकि, एसबीआई ने पहले से ही सभी सेविंग अकाउंट पर न्यूनतम बैलेंस की बाध्यता को खत्म कर रखा है। एसबीआई की इस नई सुविधा का लाभ ग्राहकों को मिलता रहेगा।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत अगली किस्त १ अगस्त २०२० से किसानों के खातों में ट्रांसफर की जाएगी। अगर आप शर्तें पूरी करते हैं और अब तक आपने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है तो १ जुलाई से बड़ा झटका लगेगा, क्योंकि अगली दो किस्तों के लिए रजिस्ट्रेशन की डेडलाइन ३० जून थी। आपको बता दें कि पीएम किसान के तहत अगर आप जून में आवेदन करते हैं और यह स्वीकार हो जाता है तो अगली २ किस्त आपको आसानी से मिल जाती है।