Published On : Tue, Dec 2nd, 2014

गोंदिया : रिश्वत कांड में पुलिस सिपाही गिरफ्तार

Police Constable bribe
गोंदिया।
जानवरों के दो व्यापारियों को एक सिपाही द्वारा वर्दी का धौंस दिखाकर जबरन माल जब्त करने व मामला दर्ज करने की बात कह 20 हजार की रिश्वत मांगी गई. फरियादी से पहले 5 हजार व बाद में 10 हजार रुपये लेने का सुराग पाकर एसीबी ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, 07 नवम्बर को फरियादी व उसके एक अन्य साथी ने बकरियां खरीदी कर उसे बिक्री करने के लिए ट्रक में लाद कर देवरी से कोहमारा रोड स्थित राजू अण्णा के ढाबे में रुके. उस वक्त देवरी पुलिस थाने के सिपाही गै.अ. शहारे वहां पहुंच कर दोनों को बोला कि अवैध तरीके से जानवरों का परिवहन कर रहे हो, ट्रक और जानवरों को जब्त कर लूंगा. किन्तु फरियादी ने इस पर सफाई दी कि हमने खरीद कर बिक्री के लिए ले जा रहे हैं कहकर रसीद दिखाई. परंतु शहारे ने एक न सुनी. और कार्रवाई की धौंस जमाते हुए 20 हजार रुपये की रिश्वत माँगी. तत्काल 5 हजार रुपये भी ऐंठ लिये. और शेष 15 हजार की रकम लेकर आने का कहा. इससे क्षुब्ध होकर फरियादी ने इसकी शिकायत एसीबी, गोंदिया में दर्ज करवा दी.

उधर गोंदिया की एसीबी की टीम ने मामला दर्ज कर 12 नवम्बर को रिश्वत की जाँच-पड़ताल कार्यवाही के दरम्यान गै.अ. शहारे को फरियादी के 10 हजार रिश्वत की रकम माँगने  व स्वीकारने का सुराग पाकर गिफ्तार कर लिया. उस पर 2 दिसम्बर को आरोपी चालक नायक पुलिस सिपाही देवरी पुलिस स्टेशन शर्मानंद टीकाराम शहारे के खिलाफ देवरी थाने में अपराध क्र. 3019/14 कलम 7 रिश्वत प्रतिबंधक अधिनियम 1988 के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है. आगे की जांच की जा रही है.

यह कार्यवाही पुलिस उप अधीक्षक दिनकर ठोसरे, पुलिस निरीक्षक प्रमोद घोंगे, पुलिस निरीक्षक शिवचरण पेठे, सहायक फौ. दिवाकर भदाड़े, पोहवा गोपाल गिर्हेपुंजे, दीपक दत्ता, नापोशि राजेश शेंद्रे, तोषंत मोरे, योगेश उईके, शेखर खोब्रागडे, चालक देवानंद मारबते व मपोशि तनुजा मेश्राम के साथ पूरी गोंदिया टीम ने किया.

इस कार्यवाही के बाद नागपुर परिक्षेत्र के पुलिस अधीक्षक प्रकाश जाधव की ओर से नागरिकों से आह्वान किया गया कि कोई भी सरकारी कार्यालय में किसी भी अधिकारी अथवा कर्मचारी व उनके अधीनस्थ निजी लोगों द्वारा रिश्वत माँगी जाए तो कृपया एसीबी कार्यालय के टोल फ्री लैंडलाइन क्र. 1064 से सम्पर्क करें.