Published On : Sat, Feb 18th, 2017

बीजेपी जनता को फंसाने वाली पार्टी – काँग्रेस

Advertisement


नागपुर:
 नागपुर महानगर पालिका चुनाव की पृष्ठभूमि पर सभी दल के नेताओं द्वारा ज़ोरदार प्रचार अभियान शुरू है। एक ओर मनपा में सत्ताधारी दल बीजेपी के नेता जनता के बीच अपने काम गिनाकर मत माँग रहे हैं, वही दूसरी ओर प्रमुख विपक्षी दल काँग्रेस बीजेपी नेताओं के दावों की पोल खोल रहे हैं।

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने अपनी प्रचार सभाओं में शहर से जुड़े कई काम गिनाये। इन दोनों नेताओं के दावे को काँग्रेस पार्टी प्रवक्ता अजय लोंडे ने खोखला करार दिया है। शनिवार को आयोजित पत्र परिषद में लोंडे के साथ उपस्थित पार्टी नेता विशाल मुत्तेमवार और मुन्ना ओझा ने भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए बीजेपी को लोगों को फंसाने वाली पार्टी करार दिया।

मुख्यमंत्री ने एक सभा के दौरान नागपुर को विश्व स्तर का शहर बनाने का वादा जनता से किया। उनके इस दावे पर काँग्रेस ने सवाल खड़े करते हुए कहा कि शहर में अब भी मूलभूत सुविधाओं का आभाव है जो अब तक पूरी नहीं की जा सकी हैं, ऐसे में हम कैसा शहर भविष्य में देखेगे इसकी जानकारी मुख्यमंत्री दें ?

Advertisement
Advertisement

यह कहते हुए कि शहर के लिए सौभाग्य की बात है कि मुख्यमंत्री और केंद्र में बड़ा कद रखने वाला केंद्रीय मंत्री शहर से तालुक रखते हैं, पत्र परिषद में कांग्रेस की ओर से यह भी पूछा गया कि जब बीते 10 सालों से नागपुर महानगर पालिका में बीजेपी की सत्ता है। बावजूद इसके विकास कार्य शिथिल पड़े हैं। पत्र परिषद में यह स्पष्ट किया गया है कि हर बार मेट्रो का जिक्र किया जाता है बीजेपी नेता इसका श्रेय लेते है लेकिन सच्चाई यह है कि मेट्रो नागपुर को काँग्रेस की देन है।

पत्र परिषद में साफ़ तौर पर आरोप लगाया गया कि बीजेपी भ्रष्टाचार छुपाने के लिए स्मार्ट सिटी, मेक इन नागपुर जैसे शिगूफ़े छोड़ रही है। पार्टी नेताओं द्वारा जनता को बताई गयी एक भी योजना कामयाब नहीं हो पाई है। भाजपा सिर्फ लोगों को फंसाने का काम कर रही है। लेकिन जनता अब झूठे वादों में नहीं फसेंगी और काँग्रेस को ही मनपा की सत्ता की चाभी सौंपेगी।

गड़करी के दावे की भी पोल खोली
एक प्रचार सभा के दौरान केंद्रीय मंत्री ने लगभग 20 हजार करोड़ रूपए का काम लाये जाने की जानकारी दी थी। काँग्रेस ने इस जानकारी को नागपुर वासियों की दिशाभूल करने वाला करार दिया। सत्ता में जिस स्थिति में बीजेपी है उस हिसाब से अब तक कम से कम 70 फीसदी वादे पूरे हो जाने चाहिए थे। विशाल मुत्तेमवार ने मिहान के विकास और वहाँ रोजगार दिलाने के दावे को भी बड़बोलापन करार दिया। मुत्तेमवार के अनुसार मिहान में रोजगर की जितनी संख्या वर्ष 2014 में थी उतनी ही अब भी है। सारी बड़ी कंपनियां पहले से ही अपना काम शुरु कर चुकी हैं। जबकि बीजेपी के शासनकाल में मिहान में आई पतंजलि और रिलायंस जैसी कंपनियों ने अब तक बॉन्ड की रकम तक नहीं भरी है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement