Published On : Fri, Jan 6th, 2017

भाजपा के पुणेकर, मनसे के खापेकर ने थामा कांग्रेस का दामन

ramesh-punekar-shravan-khapekar
नागपुर:
दो वर्तमान नगरसेवकों ने अपनी-अपनी पार्टी को छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया है। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण की उपस्थिति में होटल ब्लू रैडिसन में आयोजित कार्यक्रम में रमेश पुणेकर ने भारतीय जनता पार्टी को और श्रावण खापेकर ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना को छोड़कर कांग्रेस में प्रवेश किया। दोनों नेताओं के साथ उनके समर्थकों ने भी कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया। श्री चव्हाण नोटबंदी के विरोध में प्रदर्शन में शिरकत करने नागपुर पहुँचे हैं।

ऐन महानगर पालिका चुनाव से पहले हुए इस बदलाव को कांग्रेस अपने पक्ष में बनती लहर का असर मान रही है, जबकि जिन राजनीतिक दलों को छोड़कर ये नगरसेवक कांग्रेस में शामिल हुए हैं उनका कहना है कि सिर्फ टिकट के लालच में इन नेताओं ने पाला बदला है और कांग्रेस को इन दोनों नगरसेवकों से कोई खास फायदा नहीं होगा क्योंकि माहौल इन नगरसेवकों के खिलाफ बना हुआ है।

पुणेकर ने विधायक कुंभारे को कोसा
गोलीबार चौक से नगरसेवक रमेश पुणेकर ने कहा कि उन्होंने मध्य नागपुर के विधायक विकास कुंभारे के तानाशाही रवैये से त्रस्त होकर पार्टी छोड़ने का फैसला किया। क्योंकि कुंभारे और वह एक ही जाति से आते हैं, इसलिए श्री कुंभारे उन्हें राजनीतिक तौर पर बढ़ने नहीं दे रहे थे। श्री पुणेकर मनपा के गांधीबाग जोन के सभापति भी रह चुके हैं।

खापेकर ने मनसे नेताओं के असहयोग को कारण बताया

श्रावण खापेकर ने कहा कि वह मनसे के अध्यक्ष राज ठाकरे के करिश्माई नेतृत्व से आकर्षित होकर पार्टी में आए और पार्टी की टिकट पर नगरसेवक भी बने, लेकिन मनसे के स्थानीय नेतृत्व के असहयोग के चलते वह अपने वार्ड में विकास कार्यों को गति नहीं दे पा रहे थे, इसलिए कांग्रेस का दामन उन्होंने थाम लिया क्योंकि उन्हें पूरा भरोसा है कि आगामी मनपा चुनाव में कांग्रेस तीन-चौथाई बहुमत से जीत दर्ज करेगी।

उल्लेखनीय है कि हाल के कुछ महीनों में कांग्रेस में शामिल होने वाले नगरसेवकों की संख्या बढ़ रही है। पहले शिवसेना की शीतल घराट और भारतीय रिपब्लिकन पार्टी – बहुजन महासंघ की नगरसेवक भावना दखने ने और बीते शीतसत्र के दौरान बहुजन समाज पार्टी के नगरसेवक किशोर गजभिए और निर्दलीय नगरसेवक किशोर डोरले और कविता सांगोले ने भी कांग्रेस पार्टी में प्रवेश किया।