Published On : Tue, Jul 6th, 2021

भंडारा: ट्रेन के जरिए गांजे की तस्करी , टॉयलेट की छत में मिले 33 किलो गांजा भरे पैकेट

क्राइम ब्रांच ने जैसे ही टॉयलेट की छत खोली गांजे से भरे पैकेट भरभरा कर गिरने लगे


गोंदिया/भंडारा। ट्रेनों से बड़ी मात्रा में गांजे की तस्करी की जा रही है । गांजे की तस्करी के लिए पुलिस टीम ने नए तरीके का खुलासा करते पूरी- अहमदाबाद एक्सप्रेस के स्लीपर कोच के टॉयलेट से 33 किलो गांजा बरामद किया है। टॉयलेट की छत को खोलकर तस्करों ने गांजे के पैकेट रखकर छत की प्लाई को स्क्रू से फिर पैक कर दिया था ताकि किसी को भनक तक न लगे। हालांकि नागपुर क्राइम ब्रांच पुलिस टीम ने स्लीपर कोच S-4 तथा उसके आजू-बाजू लगे दोनों कोच की तलाशी शुरू कर दी तथा यात्रियों से भी पूछताछ की लेकिन पुलिस टीम को गांजे के तस्कर हाथ नहीं लगे।

गौरतलब है कि गांजा तस्करी से जुड़े लोग रेलवे पुलिस की आंखों में धूल झोंकने के लिए नित नए प्रयोग कर रहे हैं ताकि ट्रेन में गांजा जा रहा है यह पुलिस को आसानी से पता भी न चल सके।

तस्करी के लिए इस्तेमाल होने वाले नए तरीके का खुलासा रविवार 4 जुलाई को उस वक्त हुआ जब भंडारा रोड स्टेशन से अपराध गुप्तचर शाखा की टीम श्वान दस्ते के साथ ट्रेन नंबर 02843 पूरी-अहमदाबाद एक्सप्रेस मे गुप्त विस्फोटक वस्तुओं की जाँच करने हेतु 14:15 बजे चेकिंग ड्यूटी पर लगी हुई थी ।

ड्यूटी के दौरान चेकिंग करते समय कलमना स्टेशन के करीब उक्त चलती ट्रेन के कोच नंबर S -04 के पीछे के बाएं टॉइलेट के पास जाकर विस्फोटक और मादक पदार्थ सूंघकर बताने वाला स्निफर डॉग टॉयलेट के पास जाकर रूक गया।

टॉयलेट खोलकर देखा गया तो एक खाकी रंग का पैकेट भीतर गिरा पड़ा था।

संदिग्ध पैकेट मैं कोई बारूद की वस्तु नहीं है इस बात की पुष्टि स्निफर डॉग की मदद से हुई तो उस टेप लगे पैकेट को नुकीली चीज से खोला गया तो भीतर अच्छी क्वालिटी का 32 किलो 975 ग्राम गांजा भरा था।कयास लगाए जा रहे हैं कि जर्क और स्क्रू ढीला होने की वजह से एक पैकेट छत से टॉयलेट में गिर गया होगा।ट्रेन के नागपुर स्टेशन पहुंचते ही अधिकारी ने टॉयलेट की छत खोलकर तलाशी लेने को कहा- सुरक्षा जवानों ने जैसे ही टॉयलेट की छत खोली तो गांजा से भरे पैकेट भर भराकर गिरने लगे।उक्त कोच तथा बाजू के कोचों के यात्रियों से लावारिस बंडलों के बाबत पूछताछ की गई पर किसी ने भी उस पर अपना मालिकाना हक नहीं जताया।पुलिस सूत्रों की मानें तो गांजा रखने के लिए तस्करों ने खाकी रंग के खास पैकेट बनाए थे प्रत्येक पैकेट में 2 किलो से अधिक गांजे को कंप्रेस कर भरा गया था तथा हर पैकेट पर इतना टेप चिपकाया गया कि उसमें से हवा भी नहीं निकल सकती थी।

इस तरह टॉयलेट में 16 गांजे के स्मेल लैस पैकेट छिपाकर रखे गए थ ।

इसी बीच स्निफर डॉग रॉकी टॉयलेट के पास जाकर रुक गया वहां एक पैकेट भीतर गिरा पड़ा था जिससे इस नायाब गांजा तस्करी के मामले का खुलासा हुआ। नागपुर स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 3 पर लावारिस बंडलों को उतारा गया और पंच गवाहों के सामने जब्तो पंचनामा तैयार करने के बाद इतवारी रेलवे पुलिस के सुपुर्द किया गया जहां अपराध क्रमांक 13/ 2021 के धारा 20 (ब) 22 , एनडीपीएस एक्ट के तहत सोमवार 5 जुलाई को कार्रवाई की गई है ।

मामले में जब्त संपत्ति की अनुमानित कीमत 3 लाख 29 हजार 750 रूपए आंकी गई है


यह पूरी कार्रवाई मंडल सुरक्षा आयुक्त पंकज चुघ के मार्गदर्शन तथा सहायक आयुक्त एस.डी देशपांडे के कुशल नेतृत्व में अपराध गुप्तचर शाखा नागपुर के उप निरीक्षक विनेक मेश्राम , उप निरीक्षक के.के निकोड़े , सहायक उप निरीक्षक एस.एस सिडाम, प्रधान आरक्षक एस.बी मेश्राम, आरक्षक बी.हलमारे एवं डॉग होल्डर एस.डी गवई के द्वारा की गई।

रवि आर्य