Published On : Mon, Jan 5th, 2015

कोंढाली : बैंक कर्ज नोटिस जलाव आंदोलन

bank Notice burning movement
कोंढाली (नागपुर)।
जिला मध्यवर्ती बैंक तथा अन्य बैंको द्वारा किसानों को किसान कर्ज वसूली के नोटिस भेजें गए है. बैंक के कर्जे की अदायगी करने की मांग की है. कोंढाली क्षेत्र के किसानो ने कांग्रेस के नेता नाना गावंडे के नेतृत्व में कर्ज के नोटिस को जलाकर नोटिस की होली मनाई. इस दौरान युति सरकार के खिलाफ किसानों ने नारे बाजी भी की.

अधिक जानकारी के अनुसार बाजारगांव में कोंढाली तथा बाजारगांव क्षेत्र के सैकड़ों किसानों को नागपुर जिला मध्यवर्ती बैंक द्वारा विगत वर्ष के किसान कर्ज के अदायगी करने के लिए ब्याज सहित लिए गए कर्ज के लिए नोटिस भेजी गयी है. स्थानीय किसानों ने बताया कि गत दो वर्षों से किसानों को नैसर्गिक आपत्तियों के चलते भारी नुकसान उठाना पड़ा है. हाल ही में युति सरकार द्वारा किसानो के कर्ज माफ़ी के संदर्भ में अनेक घोषनाये की है. जिसमें किसानों के कर्ज के ब्याज माफ़ करने तथा कर्ज वसूली पर भी रोक लगायी जाने की घोषण करने के बावजूद बैंकों द्वारा किसानो को कर्ज वसूली के नोटिस भेजकर जलेपर नमक छिड़कने का काम हो रहा है. यह आरोप कांग्रेस नेता नाना गावंडे द्वारा किया गया. साथ ही बाजारगांव के साईं मंदिर के समीप सैकड़ों किसानों ने युति सरकार के खिलाफ घोषनाये की. ”किसानो का कर्ज माफ़ हो, मोदी सरकार तथा देवेंद्र फडणवीस सरकार किसानों को दिए गए वादे पुरे करे” यह नारे लगाते रहे.

इस अवसर पर सैकड़ों किसानों के साथ नाना गावंडे, भिमरावजी कडु, प्रकाश वसु, राष्ट्रपाल पाटिल, सतीश चव्हाण, आबा भोगे पाटिल, आदमने अनेक गांव के सरपंचों की उपस्थिति में ‘कर्ज नोटिस जलाव’ आंदोलन किया गया.

इस संदर्भ में नागपुर जिला मध्यवर्ती बैंक के वरिष्ठ महाव्यवस्थापक निकम से पूछने पर उन्होंने बताया कि बैंक वसूली रोकने के लिए सरकार से कोई निर्देश नहीं मिले है. किसानों ने गत वर्ष लिए गए कर्ज की नोटिस भेजी गयी है. नोटिस भेजकर किसानों से कर्ज अदागयी की मांग करनी ही पड़ती है. जिस क्षेत्र में 50 प्रतिशत से कम आनेवारी है वहां के किसानो से बैंक कर्ज वसूली के लिए लड़ाई नहीं की जा रही है. फिर भी नोटिस भेजना यह बैंक का नियमित कार्य है.