Published On : Mon, Feb 9th, 2015

अकोला : कला जतन करें युवा पीढ़ी


अ.भा. विद्यार्थी परिषद के महाकवि कालिदास संगीत समारोह में मान्यवरों की राय

अकोला। युवाओं ने कला गुणों को समाज के समक्ष प्रस्तुत कर अपनी अलग छवि निर्माण करने के लिए युवा पीढी ने कला का जतन करने की अपील अ.भा. विद्यार्थी परिषद की ओर से अकोला में आयोजित महाकवि कालिदास संगीत महोत्सव में मान्यवरों की. मान्यवरों ने अपने विचारों में कहाकि भारत संस्कृति प्रधान देश है . देश का वैभव सुशिक्षित युवा नाहीं बल्कि संस्कारित युवा है. श्रीमती लरातो वाणिज्य महाविद्यालय में महाकवि कालिदास संगीत महोत्सव का उद्घाटन किया गया.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद व शिवसंस्कार प्रतिष्ठान के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय महाकवि कालिदास संगीत समारोह का आयोजन किया गयाा था. इस अवसर पर प्रमुखता से उपस्थित आचार्य हरिभाऊ वेरूलकर ने कहा कि सभी ने संस्कृति प्रधान सभ्यता का पालन करना चाहिए. केवल शिक्षा से मानव नहीं गढ सकता बल्कि सुसंस्कारों से बनता है. वर्तमान युग में शिक्षा का क्षेत्र बढता जा रहा. किंतु  संस्कार कम होते जा रहे है. इसलिए शिक्षितों के विश्व में दुष्कर्म, हत्या जैसी वारदाते हो रही है.

शिक्षा को अगर सुसंस्कार का साथ मिला तो एक अच्छा नागरिक बनेगा व राष्ट्र का विकास होगा. मराठी चैनल पर चल रहे जय मल्हार मालिका में म्हालसा देवी की भूमिका अदा कर रही अदाकारा सुरभि हांडे ने कहा कि कलाकार अपने साथ दुसरों को भी कला के माध्यम से जीवन के तनाव भूलाने में मदद करता है. साथ ही व्यक्ति ने जीवन भर मन से युवा रहना चाहिए. कार्यक्रम में अभाविप के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीहरि बोरीकर, डा. केदार ठोसर, स्वागत समिति के अध्यक्ष डा. दीपक केलकर ने विचार रखे. संयोजक डा. राजीव बोरकर ने प्रास्ताविक किया. संचालन एड. मनीषा कुलकर्णी तथा आभार प्रदर्शन एड. मोतीसिंग मोहता ने किया. इस अवसर पर अभाविप की विदर्भ मंत्री शुभांगी नक्षिणे, धनंजय कुलकर्णी सहित अनेक मान्यवर उपस्थित थे .
ABVP Logo