Published On : Fri, May 8th, 2015

मूल : अजित की मौत की जांच हो


वृद्ध माता-पिता की मांग

Mrutak Ajit
मूल (चंद्रपुर)। अजित की दुर्घटना में मौत नही हुई. प्रेम प्रकरण सामने आएगा इस डर से दोस्त की मदत से प्रेमी ने हत्या की. ऐसा ध्यान में आता है. स्थानीय पुलिस प्रशासन हत्यारों से पैसे लेकर प्रकरण रफादफा करने का प्रयास रही है. ऐसा आरोप मृतक अजीत के माता-पिता ने किया है. इस घटना की जांच की जाए ऐसी मांग जिला पुलिस अधिक्षक से की गई है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार तालुका के नवेगांव भुजला अजीत साखरु चिमुरकर (19) बेम्बाल के आनंद कनिष्ठ महाविद्यालय में कक्षा 11 वी. का छात्र था. मिलनसार और होशियार अजीत की 26 फरवरी 2015 को मौत हो गई. इस घटना के दिन शाम 7:30 बजे के करीब अजीत अपने घर बैठा था. इस दौरान लोकेश वाघरे उसके घर आया और शौच जाने के लिए बाहर निकला. 10 बजने के बाद भी अजीत लौटा नही तो उसके माता-पिता को चिंता होने लगी. पश्चात विकास वाघरे ने अजीत के घर जाकर बताया कि, अजीत की दुर्घटना में मौत हुई है. उसे सर, गर्दन और हाथ पैरों पर गंभीर जख्म हुए है. उसे बेंबाल के प्राथमिक आरोग्य केंद्र में भर्ती किया गया है.

Advertisement

वृद्ध माता-पिता अपने बेटे को देखने परिजनों समेत अस्पताल पहुंचे. तब अजीत बेहोश था. प्राथमिक उपचार के बाद भी अजित की हालत में सुधार नही हुआ. उसके बाद डाक्टर की सलाह से अजित को मूल के उपजिला अस्पताल में रेफर किया गया. लेकिन मूल में भी अजीत कोई प्रतिक्रिया नही दे रहा था, जिससे उसे गड़चिरोली भेजा गया. जहां गड़चिरोली में उपचार के दौरान अजित की मौत हो गई. उसके बाद अजित के शव का पोस्टमार्टम किया गया. सर पर गंभीर चोट लगने से उसकी मौत हुई ऐसा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहां गया. लेकिन लोकेश और नागेश ने अपने दोस्त भुजंग झाडे के साथ मिलकर अजीत की हत्या की होगी. ऐसा संदेह मृतक अजीत के पिता साखरु चिमुरकर और माँ फुलनबाई ने व्यक्त किया है.

Advertisement

अजीत शौच के लिए गांव छोडकर 2 किमी दूर क्यों गया? रात के समय यातायात कम रहती तो दुर्घटना कैसे हो सकती है? दुर्घटना में शरीर मार्ग के किनारे न गिरते हुए खेत के पास कैसे गिरा? उसका मोबाइल खेत परिसर में कैसे मिला? ऐसे अनेक प्रश्न उपस्थित हो रहे है. नागेश और अजीत एक ही महाविद्यालय में पढाई करते थे. नागेश का गांव की एक युवती से प्रेमसंबंध होने की बात अजीत को पता चली थी. अजीत युवती के माता-पिता को बताएगा जिससे प्रेम प्रकरण की बात उजागर होगी. इसी डर से नागेश ने लोकेश और भुजंग से मिलकर अजीत की हत्या कर दी.

नागेश, लोकेश और भुजंग को हिरासत में लिए बगैर जांच नही होगी. ऐसे विश्वास से अजीत के माता-पिता ने जिला पुलिस अधिक्षक को जाँच करने की मांग की है. अजीत गंभीर अवस्था से मरने तक बेहोश था. जिससे घटना की जानकारी पुलिस को नही दी गई. इसका फायदा उठाकर अजीत के हत्यारों ने पुलिस से आर्थिक व्यवहार करके मामले को रफादफा करने का प्रयास किया है. योग्य जाँच करके आरोपियों को सजा देंगे ऐसा आश्वासन जिला पुलिस अधिक्षक राजीव जैन ने मृतक के माता-पिता को दिया है. चार माह पूर्व हुई इस घटना में नए सिरे से जांच पर सभी का ध्यान लगा हुआ है.

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement