Published On : Mon, Jan 8th, 2018

अप्रैल में ख़त्म हो जाएगा अजय संचेती का कार्यकाल

Ajay Sancheti
नागपुर: इस वर्ष अप्रैल माह में नागपुर के अजय संचेती, मनोनीत सदस्य द्वय सचिन तेंदुलकर व रेखा, अनु आगा समेत राज्य सभा के ५५ सदस्यों का कार्यकाल समाप्त होने जा रहा है। इसके बाद उच्च सदन की वास्तविक तस्वीर बदल जाएंगी। कांग्रेस कोटे से महाराष्ट्र व गुजरात में सदस्य होंगे तो उत्तरप्रदेश से भाजपा की सीटें बढ़ेगी। महाराष्ट्र से कांग्रेस के दो सदस्य का कार्यकाल समाप्त होगा और इस बार एकमात्र सदस्य को राज्यसभा भेज पाएगी। वहीं गुजरात से राज्यसभा की ४ सीटों में से इस बार कांग्रेस को २ सीटें मिलेंगी।

आगामी २७ जनवरी को दिल्ली कोटे से राज्यसभा की सदस्यता पाने वाले ३ कांग्रेसी नेताओं का कार्यकाल समाप्त होने वाला है, इनकी जगह आम आदमी पार्टी के ३ सदस्य पहली मर्तबा राज्यसभा में नज़र आएंगे।

अप्रैल माह में भाजपा के नागपुर के अजय संचेती, केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, जे पी नड्डा, रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावड़ेकर, धर्मेंद्र प्रधान, के एल गणेशन, थावरचंद गहलोत, मनसुखलाल मंडाविया, मेघराज जैन, भूषणलाल जांगिड़, बसवाराज पाटिल, विनय कटियार, रंगासायी रामकृष्णन, पुरुषोत्तम रुपाला, शंकरभाई एन वेंगड़, भूपेंद्र यादव

समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवाल, जया बच्चन व किरणमय नंदा

बसपा के मुकनाद अली

कांग्रेस के प्रमोद तिवारी, रेणुका चौधरी, राजीव शुक्ला, रहमान खान, रजनी पाटिल, नरेंद्र बुढ़ानिया, अभिषेक मनुकुमार संघवी,

जदयु के डॉक्टर महेंद्र प्रसाद, अनिल कुमार साहनी, वशिष्ठ नारायण सिंह

निर्दलीय चंद्रशेखर, ए वी स्वामी

शिवसेना के अनिल देसाई

एनसीपी के डी पी त्रिपाठी, वंदना चौहाण,

टीएमसी के विवेक गुप्ता,कुणाल कुमार घोष, नदीम उल-हक़,

टीडीपी के देवेंद्र टी गौड़, सी एम रमेश,

माकपा के तपन कुमार सेन

बीजद के यु के देव,दिलीप तिर्की का कार्यकाल ख़त्म हो जाएगा।

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र से भाजपा पुनः अजय संचेती को राज्यसभा के लिए मनोनीत कर सकती है। संचेती को मुख्यमंत्री गुट का माना जाता है। मुख्यमंत्री की सिफारिश पर ही बनवारीलाल पुरोहित को राज्यपाल बनाया गया था।