Published On : Thu, Aug 22nd, 2019

कृषि उत्पादक संघ ने सुर नदी पर कोल्हापुरी बाँध बनाने की केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से की मांग

नागपुर- कृषि उत्पादक संघ के प्रतिनिधि मंडल ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाक़ात की. इसमें रामटेक, मौदा परिक्षेत्र में हो रही पानी की समस्या से उन्हें अवगत कराया गया. किसानों ने खिंडसी से निकलनेवाली सुर नदी पर कोल्हापुरी बाँध बनाने की मांग की, ताकि क्षेत्र की पानी की समस्या दूर हो सके और क्षेत्र का पानी का जमीनी स्तर बढ़ सके. कोल्हापुरी बाँध बनाने से क्षेत्र का किसान सुजलाम सुफलाम हो जाएगा. कृषि उत्पादक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.जे.अग्रवाल ने बताया कि खिंडसी तालाब से निकली सुर नदी पर नवरगांव संग्रामपुर से काचुरवाही, खंडाला, किरनापुर, मसला व् आगे कन्हान संगम तक कोल्हापुरी बाँध बनाएं जाए. जिससे इस क्षेत्र के किसानों को सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध हो और सुर नदी के दोनों तरफ के क्षेत्रों को पानी मिल सके. इसके अलावा क्षेत्र के सभी ग्रामवासियो को पिने के पानी के लिए स्वच्छ पानी की व्यवस्था आज की आवश्कयता है.

संघ के महासचिव संदीप अग्रवाल ने बताया की पिछले कई वर्षो से क्षेत्र का किसान बड़ी कठिन समस्या से गुजर रहा है. कभी पानी का अभाव तो कभी अतिवृष्टि ने उसे बर्बाद कर दिया है. जिस तरह से पर्यावरण को नुकसान हो रहा है. उसके कारण क्षेत्र का पानी का जमीनी स्तर निचे जा रहा है. यह पहला वर्ष है की क्षेत्र में कुओ का पानी मात्रा 2 घंटो में ही ख़त्म हो रहा है. इसलिए अगर सुर नदी पर कोल्हापुरी बाँध बनाएं जाए तो किसानों को खेती के लिए 12 महीने पानी उपलब्ध हो सकेगा साथ ही पुरे परिक्षेत्र का पानी का जमीनी स्तर बढ़ जाएगा.

इस वर्ष मॉनसून के आने के कारण अभी तक धान का रोपण इस क्षेत्र में शुरू है. यदि आगे मॉनसून साथ देगा तो ठीक वरना किसानों को परेशानियों का सामना करना होगा. सिंचाई की पानी की समस्या के निराकरण के लिए सुर नदी पर बाँध बनाने के कार्य को मंजूरी प्रदान कर कार्यवन्तित करने की आवश्यकता है.

गडकरी ने किसानों को हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया तथा जल्द ही अधिकारियो से बात कर सुर नदी पर बाँध बनाने के आदेश देने की बात कही. उनकी किसानों के प्रति विनम्रता देख सभी किसान खुश हुए. रामटेक परिक्षेत्र में यह पहला मौका था जब अपनी मांग को लेकर किसान स्वयं स्फूर्ति से खुद के खर्च पर नागपुर आए थे. प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व कृषि उत्पादक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.जे.अग्रवाल, राष्ट्रीय महासचिव संदीप अग्रवाल, जिलाध्यक्ष लक्ष्मराव मल्लीपेड़ी, कचूरवाही ग्रामपंचायत के सरपंच शैलेश राउत, भेंडला ग्रामपंचायत के सरपंच राधेश्याम मानकर, बोरी ग्रामपंचायत के सरपंच रितेश झाड़े,रंगराव बांगड़कर, रितेश हेमराज झाड़े, सुनील अमृते, मोहन देशमुख, गणेश बनकर, रामप्रसाद देशमुख, राधेश्याम मानकर, आनंद शेंडे, रामा मते, दिलीप गजभिये, भोजराज दुबे, दिलीप नागरारे, आश्विन अमृते, महादेव नारनवरे, दिनेश देशमुख, रामेश्वर पंधरे, भगवान देशमुख, गुलाबराव वाडीभस्मे, मधुकर बावनकुले, भानुदास कंगाली, सुव्याराजू नंबूरी, राधेश्याम नाटकर, दिलीप कोठेकर, नरेंद्र बावनकुले,राष्ट्रपाल मोहनकर, अमोल किरपान, रवि मौंदे, ताराचंद बावनकुले,चिरकुट वाढई, देवराव मोहुर्ले,रामराव मोहुर्ले , मधुकर बुराड़े, तड़शिराम सहारे, दीपक बुराड़े, महादेव हटवार,गोविंदाजी हटवार,और अतुल मोहनकर सहभागी थे.