Published On : Thu, Aug 8th, 2019

महा मेट्रो एवं उर्जा दक्षता सेवा लिमिटेड के बीच समझौता

नागपुर : ग्रीन थीम संकल्पना पर आधारित महा मेट्रो नागपुर परियोजना में मेट्रो स्टेशनों पर सोलर पॅनल लगाये गये है. नागपुर मेट्रो स्टेशनों पर अभी तक ९६५ सोलर पॅनल लगाये गये है ! तथा ६५% उर्जा यह सौर उर्जा परियोजना के माध्यम से लेने का महा मेट्रो का संकल्प है ! आज पर्यावरण संवर्धन की दिशा में महा मेट्रोने और एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए उर्जा दक्षता सेवा लिमिटेड(Energy Efficiency Service Limited) भारत सरकार उर्जा मंत्रालय के संयुक्त उपक्रम कंपनी के साथ समझौता किया है.

महा मेट्रो के कार्यकारी संचालक (प्रोक्यूरमेट विभाग) श्री. आनंद कुमार एवं उर्जा दक्षता सेवा लिमिटेड विभाग के (पूर्व महाराष्ट्र) प्रादेशिक प्रमुख श्री. किशोर चव्हाण ने संचालक (रोलिंग स्टॉक) श्री.सुनील माथुर, संचालक(परियोजना) श्री.महेश कुमार, संचालक(वित्त) इनकी प्रमुख उपस्थिती में इस समझौते पर हस्तांक्षर किए !

महा मेट्रो के प्रबंध निदेशक ने परियोजना के प्रारंभ में ही सौर उर्जा के उपयोग को महत्व दिया है, इसी कडी में नागपुर मेट्रो के चार स्टेशन तथा मेट्रो भवन पर सौर पॅनल लगाकर बडे पैमाने पर सौर उर्जा का उपयोग किया जा रहा है ! महा मेट्रो द्वारा चरणबद्ध तरीके से मेट्रो के सभी स्टेशनों पर सौर उर्जा पॅनल स्थापित किए जाएंगे. पर्यावरणपूरक मेट्रो की संकल्पना को अंजाम देते हुए मेट्रो स्टेशनों पर चार्जिंग पॉईंट स्थापित करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया !

भारत सरकार के उर्जा मंत्रालय द्वारा ७ मार्च २०१८ को राष्ट्रीय ई-मोबिलीटी कार्यक्रम तैयार किया गया. इसके अंतर्गत ई-वाहन एवं सार्वजनिक चार्जिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने का मुख्य उद्देश है. इसी कडी में आज यह करार किया गया. नागपुर मेट्रो के सभी मेट्रो स्टेशनों पर उर्जा दक्षता विभाग की ओर से उपकरण व विद्युत व्यवस्था की जायेगी एवं इसके एवज में महा मेट्रो को इस जगह का शुल्क मिलेगा !

अभी तक दिल्ली एवं चेन्नई में यह सेवा उपलब्ध है ! अब नागपुर में यह सुविधा उपलब्ध होने से शहर का महत्व निश्चीत ही बढेगा. महत्वपूर्ण स्तेशन पर वाहनो की चार्जीग की सुविधा होने के वजह से इलेक्ट्रीक वाहनों का उपयोग करने वाले मेट्रो के यात्री एवं अन्य नागरीको को बडे पैमाने में इसका लाभ मिलेगा. इस माध्यम से पर्यावरण सुरक्षा जो कि, मेट्रो का संकल्प है इसे बल मिलेगा तथा दुसरी ओर मेट्रो के लास्टमाईल कनेक्टीव्हीटी योजना भी सूचारू रूप से कार्यान्वित होगी ! इस चार्जिंग पॉईंट पर लिथीयम निर्मित बॅटरी वाहन चार्ज की जायेगी. एक फोरव्हीलर वाहन को पूर्णरूप से चार्ज होने के लिये १ घंटे की कालावधी लगती है, जिसमे १४ युनिट उर्जा चार्ज होगी व १२० कि.मी. तक वाहन चल सकेगे.

समझौते पर हुए हस्ताक्षर के दौरान महा मेट्रो के मुख्य प्रकल्प प्रबंधक (सोलर एवं स्टेशन) श्री. हिमांशू घटूवारी, उपमहाप्रबंधक (सोलर)श्री.नरेंद्र अहिर, उर्जा दक्षता सेवा विभाग के सहायक अभियंता श्री. कुणाल सोनी,जीजोबा पारधी, दीपांकर बागडे व अन्य अधिकारी गण उपस्थित थे.