Published On : Sat, Nov 30th, 2019

आखिर सुलझा ठाकरे सरकार का पेच, स्पीकर पर राजी हुई कांग्रेस

नागपुर– महाराष्ट्र की सत्ता को लेकर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच डेप्युटी सीएम और स्पीकर के पद को लेकर मची खींचतान खत्म होने की ओर है। कांग्रेस ने विधानसभा स्पीकर के पद को स्वीकार कर लिया है और अब सीनियर विधायक नाना पटोले का नाम इसके लिए प्रस्तावित किया है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और उद्धव ठाकरे संग कैबिनेट मंत्री की शपथ लेने वाले बालासाहेब थोराट ने कहा कि नाना पटोले को स्पीकर के लिए उम्मीदवार बनाने का फैसला लिया गया है। इस बीच बीजेपी ने किसन कठोरे का नाम स्पीकर उम्मीदवार के तौर पर फाइनल किया है।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस के सीनियर लीडर पृथ्वीराज चव्हाण ने स्पीकर बनने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। कहा जा रहा था कि कांग्रेस स्पीकर की बजाय डेप्युटी सीएम के पद पर जोर दे रही है। हालांकि एनसीपी की राय कि कांग्रेस स्पीकर पद ले ले, जबकि वह अपने लिए डेप्युटी सीएम चाहती थी। गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे सरकार का शनिवार को ही फ्लोर टेस्ट है। इससे पहले शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि हमारे पास 170 के करीब विधायक हैं और हम आसानी से फ्लोर टेस्ट पास कर लेंगे।

अहम मंत्रालयों पर अब तक नहीं बनी सहमति
उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को 6 मंत्रियों संग शपथ ली थी। हालांकि अब तक तीनों दलों के बीच मंत्रालयों का बंटवारा नहीं हो सका है। इसी के चलते अभी तक सरकार के विस्तार पर भी फैसला नहीं हो सका है। कहा जा रहा है कि गृह मंत्रालय, शहरी विकास, रेवेन्यू जैसे अहम मंत्रालयों पर तीनों ही दलों की दावेदारी है और अब तक इस पर सहमति नहीं बनी है।

प्रोटेम स्पीकर बदलने पर भड़की बीजेपी
बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी गठबंधन पर हमला बोलते हुए कहा है कि उन्होंने कालिदास कोलम्बकर को प्रोटेम स्पीकर के पद से हटाकर दिलीप वलसे पाटील को यह जिम्मेदारी दी है। यह कानूनी तैर पर गलत है। शपथ भी सही ढंग से नहीं ली गई। हम गवर्नर से शिकायत करने जा रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट में भी अर्जी देंगे।