Published On : Thu, Apr 4th, 2019

भाजपा- शिवसेना गठबंधन को जीताकर नरेंद्र मोदी को फिर प्रधानमंत्री बनाएं – आदित्य ठाकरे

नागपुर- जब भाजपा और शिवसेना का गठबंधन होगा या नहीं यह चर्चा जोरों पर थी. दोनों ही पार्टियों के कार्यकर्ता जो लोगों की मदद करते है. ऐसे में नागरिक भी यह सोच रहे थे कि किसे मतदान करे. गठबंधन नहीं होने की वजह से कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस दोनों पार्टिया खुश हो रही थी. फिर से भगवा लहराने के लिए गठबंधन किया गया है. जो गठबंधन गोपीनाथ मुंडे, प्रमोद महाजन और बालासाहेब ठाकरे के समय था. वही गठबंधन आज दिखाई दे रहा है. यह कहना है युवासेना के प्रमुख आदित्य ठाकरे का. वे दत्तवाड़ी में आयोजित लोकसभा चुनाव की सभा में जनता से बोल रहे थे. इस दौरान रामटेक लोकसभा के सांसद कृपाल तुमाने, स्वास्थ मंत्री दीपक सावंत, हिंगना के विधायक समीर मेघे, भाजपा नेता राजीव पोतदार, शिवसेना के सतीश हरड़े समेत शिवसेना के सभी पदाधिकारी और नेता मंच पर मौजूद थे.

इस समय ठाकरे ने कहा कि भाजपा और शिवसेना ने मिलकर राज्य का विकास किया है और अब महाराष्ट्र नहीं देश को जिताना है. उन्होंने कांग्रेस और राष्ट्रवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि दोनों ने राज्य का विकास नहीं किया है.सिंचन घोटाला कैसे किया जाए यह राष्ट्रवादी कांग्रेस से सीखने की जरुरत है.


इस समय कृपाल तुमाने ने कहा कि राज्य में गठबंधन होने के बाद मुख्यमंत्री, उद्धव ठाकरे और गडकरी प्रचार कर रहे है. सभी ने निश्चय किया है कि देश का प्रधानमंत्री मजबूत होना चाहिए. उरी और पुलवामा के बाद मोदी ने दुश्मन देश को मुंहतोड़ जवाब दिया और सर्जिकल स्ट्राइक की. कांग्रेस की सरकार केवल निषेध करने का काम करती थी. नगरपरिषद के लिए अमृत योजना, और नागरिकों के स्वास्थ के लिए आयुष्मान भारत योजना शुरू की गई. सभी सरकारी हॉस्पिटलों में यह योजना चल रही है. उन्होंने बताया कि 40 करोड़ लोगों का जनधन के तहत खाता खुला है. जिन्होंने कभी खाता खुलने की उम्मीद भी नहीं की थी. डीबीटी के माध्यम से लोगों के खातों में पैसे जमा किए जा रहे है. किसानों का सात बारा सरकार ने कोरा किया. तुमाने ने कहा कि 50 हजार युवाओ को उन्होंने रोजगार दिया है.

इस सभा में सतीश हरड़े, समीर मेघे और राजीव पोतदार ने भी रामटेक लोकसभा क्षेत्र में किए गए विकास कामों के बारे में जानकारी दी साथ ही इसके विरोधी पार्टियों पर जमकर निशाना साधा. इस दौरान हजारों की तादाद में लोग मौजूद थे.