Published On : Mon, Apr 20th, 2015

अमरावती : विस्फोटकों के साथ 5 गिरफ्तार


नांदगांव खंडेश्वर के पास कार्रवाई

5 arrested with dynamites in amravati
अमरावती। नांदगांव खंडेश्वर तहसील के ग्राम पापल में पुलिस ने 1700 डायनामाइट जिलेटिन की छड़ें व 80 डिटोनेटर के बरामद किये है. साथ ही इसके 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जिले में ग्राम पंचायत चुनाव के दौरान इतने बड़े पैमाने पर विस्फोटक बरामद होने से सनसनी मच गई है. बगैर लाइसेन्स विस्फोटकों का यह जखीरा रखने के मामले में गिरफ्तार आरोपियों में 4 राजस्थान के है और एक आरोपी पापल गांव का रहने वाला है. पांचों आरोपियों का 20 अप्रैल तक एक दिन के लिये रिमांड मिला है. बरामद किये गये कुल 1700 में से 1055 डायनामाइट जिलेटिन गांव के मध्य क्षेत्र में गढ्ढे में छिपाकर रखने जाने से पुलिस के भी होश उड़ गये. क्योंकि इस विस्फोटक से मात्र 20 फुट पर ग्रामवासियों के मकान है. आखिर इतने बड़े पैमाने पर विस्फोटक रखने के पीछे क्या मकसद है, कहां से लाये गये और किसे-किसे सप्लाई की गई या की जाने वाली थी? इन सवालों के जवाब पाने रिमांड में पुलिस पूरा जोर लगा देंगी.

राजस्थान के चारों मुख्य आरोपी, 1 पापल का
इस मामले में गिरफ्तार किये गये आरोपियों में मदन नारायणसिंग चव्हाण (30, बलवे, भीलवाडा, राजस्थान), ओमप्रकाश बगदुकुमार (45, अतान, भीलवाडा), मादु लाडू कुमार (45, अतान, भीलवाडा राजस्थान), पापलगांव के निवासी विष्णू भीमराव अवधाते (50) और हेमसिंग राठोड को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर रिमांड लिया है. गुप्त सूचना पर शनिवार को छापा मारकर पापलगांव में यह कार्रवाई की गई. पुलिस के अनुसार पापल ग्राम निवासी शेटे के मकान में कुछ संदिग्ध लोग किराये पर रह रहे है. पुलिस के आतंकवाद विरोधी दस्ते ने शेटे के मकान और परिसर में दबिश की. मकान के पडौस के एक गोदाम के पास दो ट्रैक्टर मिले. दिखायी दिये. यह दोनों ट्रैक्टर मूलत: राजस्थान के हेमसिंग सज्जनसिंग राठोड (35) के निकले. जिसके चालक मदन चव्हाण, ओमप्रकाश कुमार और माधू कुमार के साथ पापल में रहने वाले विष्णू अवधाते दोनों ट्रैक्टरों का इस्तेमाल करते है.

टूल बाक्स में जिलेटिन
तलाशी में ट्रैक्टर (आरजे 06/8697) के टूल बॉक्स में कुल 325 डायनामाइट जिलेटीन और 35 नग डिटोनेटरर्स बरामद हुये. इसी तरह दूसरे ट्रैक्टर (आरजे 06/आरए 2820)में 320 नग डायनामाइट जिलेटीन और 25 नग डिटोनेटर्स जब्त किये गये.

इस मामले में दोनों ट्रैक्टर के मालिक हेमसिंग राठोड ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि शेष डिटोनेटर व जिलेटीन का जखिरा किराये से रहने वाले कमरे के पास गढ्ढे में छिपाकर रखे हैं. पुलिस ने तत्काल खुदाई की. जिसमें कुल 1055 डायनामाइट जिलेटीन नग व 20 डिटोनेटर नग बरामद किये. इस तरह कुल मिलाकर 1700 डायनामाइट जिलेटीन नग और 80 डिटोनेटर बरामद किये गये है. जिसका बाजार मूल्य 4 लाख 13 हजार 650 रुपये आंका गया है.

10 हजार स्के.फुट का एरिया को कर सकते ब्लास्ट
जानकार सूत्रों के अनुसार बरामद किये गये 1700 डायनामाइट जिलेटीन का यदि इस्तेमाल किया जाये तो कम से कम 10000 स्के. फूट क्षेत्र तहसनहस हो सकता है.

पुलिस के होश उड़ गये जब इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक ऐसे समय बरामद हुये जब पूरे जिले में ग्राम पंचायत के चुनाव चल रहे है. गांव के मध्यक्षेत्र में गढ्ढे में 1055 डायनामाइट जिलेटीन छिपाकर रखने के मामले को भी पुलिस काफी गंभीरता से ले रही है.

हालांकि आरोपी पुलिस को प्रथम दृष्ट्या पूछताछ में यह बता रहे हैं कि कुआं, तालाब और गिट्टी खदान में विस्फोट करने के लिये यह विस्फोटक काम में लाये जाते है, लेकिन विस्फोटकों के लिये आवश्यक लाइसेंस आरोपियों के पास नहीं है.

साथ ही इतने बड़े पैमाने पर विस्फोटक रखने के लिये भी कोई सुरक्षित जगह का इस्तेमाल नहीं किया गया. गांव के बीचो-बीच यह विस्फोटक रखना खतरे से खाली नहीं है. उसके बावजूद आरोपियों ने यह संगीन जुर्म किया है.