Published On : Wed, Aug 9th, 2017

फीनिक्स इंफ्रास्ट्रक्चर के दो संचालक 200 करोड़ की धोखाधड़ी में गिरफ्तार


नागपुर:
नागपुर से फीनिक्स इंफ्रास्ट्रक्चर के दो संचालकों को भोपाल की क्राइम ब्रांच पुलिस गिरफ्तार करके ले गई है। आरोपियों में नागपुर निवासी विजय कुमार मानिकराम गौतम और तुमसर के श्रीराम नगर निवासी सुधीर श्रवण बुधे शामिल हैं। दोनों आरोपियों को दो दिन पहले भोपाल की क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया था। इन पर 20-20 हजार रुपए का इनाम घोषित था। क्राइम ब्रांच इन दोनों आरोपियों के चार साथियों की तलाश कर रही है। आरोप है कि संचालकों ने सैकड़ों नागरिकों को घर का सपना दिखाकर उनसे करीब 200 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है।

आरोपी विजय ने भोपाल की क्राइम ब्रांच को बताया कि उसने नागपुर में वर्ष 2008 में भंडारा के खात रोड निवासी अपने दोस्त जीतेश नशीने व सदर के करीमाबाद सोसायटी में रहनेवाला अहमद अब्दुल जीवानी के साथ मिलकर फीनिक्स इंफ्रास्ट्रक्चर इस्टेट इंटरनेशनल कंपनी खोलकर कारोबार शुरू किया। शुरू में कंपनी ने 10 से 20 मल्टी स्टोरी फ्लैट नागपुर में ही बेची। वर्ष 2008 में इंदौर के तरणजीत सिंह व हरमन सिंह हौरा निवासी ट्रांसपोर्ट नगर से एग्रीमेंट कर प्रापर्टी का कारोबार शुरू किया। पहले सागर कुटी (देपालपुर) में विद्या विहार कॉलोनी के नाम पर करीब 450 प्लाटों को बेचा। बेटमा में साईंबाग कॉलोनी के नाम पर 250 प्लाट बेचे। इन प्लाटों की रकम मिलने के बाद आरोपी फरार हो गए। नागपुर में भी 520 प्लाटों की धोखाधड़ी की है। इनके खिलाफ नागपुर के धंतोली थाने में मामला दर्ज है।

भोपाल क्राइम ब्रांच के एएसपी अमरेंद्र सिंह चौहान के अनुसार फीनिक्स इंफ्रास्ट्रक्चर इस्टेट इंटरनेशनल एवं टीडीएस इंफ्रा कंपनी के संचालकों ने इंदौर व आस-पास के 800 से अधिक लोगों से प्लाट के नाम पर ठगी की है। इन आरोपियों ने लोगों को इंदौर के विजय नगर, देवालपुर, बेटमा में टाउनशिप में प्लाट बेचे थे। उनसे पैसे लेने के बाद न तो टाउनशिप का विकास किया और न ही प्लाट पर कब्जा दिया। आरोपियों के खिलाफ प्लाटधारकों ने शिकायत की, जिस पर भोपाल पुलिस ने मामला दर्ज िकया। उसके बाद भोपाल की क्राइम ब्रांच ने जांच की कमान संभाली और दोनों भगोड़े आरोपी विजय कुमार और सुधीर बुधे को नागपुर से धर-दबोचा। इन आरोपियों के घोटाले नागपुर में भी उजागर होने वाले हैं। आरोपियों ने अन्य संचालकों के साथ मिलकर नागपुर में भी नागरिकों को प्लाट बेचा है।

इन आरोपियों व अन्य संचालकों ने लखनऊ व नाशिक के लोगों को भी नहीं छोड़ा है। इन दोनों शहरों में आरोपियों ने लखनऊ में 6 बीघा जमीन पर फीनिक्स सिटी के नाम पर 120 प्लाट बेचे। नाशिक में फीनिक्स सिटी जामगांव के नाम पर टाउनशिप के नाम से 220 प्लाट बेचा। भोपाल में भी होशंगाबाद रोड पर फीनिक्स सिटी ए-वन के नाम पर 425 प्लाट बेचकर धोखाधड़ी की है।