Published On : Tue, Jun 16th, 2015

सुभासचन्द्र बोस जासूसी मामले को तूल देना नेहरू की सेक्युलर छवि को तोडने का षड़यंत्र – सुभाषिनी अली

सुभाषचन्द्र बोस पर देश के प्रथम प्रधानमंत्री द्वारा जासूसी कराये जाने वाले आरोपों पर वरिष्ठ सीपीएम नेता और पार्टी पोलित ब्यूरो की सदस्य सुभाषिनी अली का कहना है की ऐसे आरोप नेहरू की सेक्युलर छवि को तोड़ने का प्रयास है , सुभाषिनी आजाद हिन्द सेना में ऊँचे पद पर रही लक्ष्मी सहगल की बेटी है , उनके मुताबिक उन्हें उनके मातापिता से यही जानकारी मिली है की बोस की मौत प्लेन एक्सीडेंट में ही हुई है . इस बात की तस्दीक दुर्घटना के वक्त नेताजी के साथ मौजूद हबीबुल रहमान ने भी की है . फिर भी नेताजी की मौत से जुड़े रहस्य को उजागर करने के लिए उनसे जुडी फाइलों को सार्वजनिक किया जाना चाहिए राजनितिक दल बयानबाजि तो कर रहे है पर ये काम कोई नहीं कर रहा है .
patrakar-bhavan
देश भर में लेफ्ट फ़्रंट के कमजोर होते धड़े पर अली ने कहा ये सच है पर इसके पीछे कई वजहें है , उनके मुताबिक जिस तरह की खर्चीली चुनाव प्रक्रिया हो गई है उसमे लेफ्ट धड़ा कमजोर हो रहा है , राष्ट्रीय दल झूठ का सहारा लेकर सत्ता पर काबिज हो रहे है और इन्ही की देखा सीखी क्षेत्रीय दल भी यही हथकंडा अपना रहे है पर पार्टी की हाल ही में विशाखापट्टनम में हुई कांग्रेस में 64 वर्षो बादपार्टी के कामकाज और भविष्य कीरणनीति पर चर्चा हुई जिसमे लेफ्ट फ़्रंट को एकजुट करने पर सहमति बानी है , औरइसी के तहत सीपीएम बिहार में चुनाव लड़ने वाली है . सुभाषिनी ने योग दिवस का समर्थन किया पर इसमे साफ़ किया की सहभागिता की कोई शर्त ना हो , योग दिवस की तैयारी में लगी बीजेपी सरकार से सुभाषिनी अली ने घरेलु काम काजी लोगोके संरक्षण के लिए कानून बनाये जाने की भी मांग की .