Published On : Wed, Jun 25th, 2014

मूल : बरसात के इंतज़ार में किसान


मूल

इस साल खेती हंगाम मई महीने की 26 तारीख से शुरू होने की वजह से खेत में कोडाई ओर बाकी काम कीया जा चुका है. किसान बुआई के लिए वरुण देवता की कॄपा का इन्तज़ार कर रहे हैं लेकिन रोहिणी नक्षत्र व मृग नाक्षत्र ख़त्म हो जाने के बाद भी इस साल अबतक बरसात नहिं हुई है. पिछले साल इस साल के विपरीत रोहिणी नक्षत्र की शुरुवात में ही बरसात हो गई थी जिससे जून महीने की 15 तारीख तक क्षेत्र का नज़ारा हरा भरा हो गया था.

खेती के अलावा पीने की समस्या भी क्षेत्र मे पैदा हो गई है. कुँए,तालाब और बोरव्हेल मे पानि का स्तर घट गया है. कुछ गांवों में टैंकर से पानी पहुँचाने की स्थिति पैदा होने का डर है. पिछली नैसर्गिक आपदाओं जैसे अतिवृष्टि और ओलावृष्टि से पहले ही किसान की कमर टुटी हुई हैं. इस बार फसल अच्छी हो तो किसानों को थोड़ी राहत मीले. अब किसान जल्द बारिश होने की दुआ कर रहे हैं.

File pic

File pic