Published On : Wed, Jul 9th, 2014

भिवापुर : दिन की लोडशेडिंग बंद की जाए


भिवापुर तालुका शिवसेना की मांग, आंदोलन की चेतावनी


भिवापुर

sghivsena loadshding
बारिश के मुंह फेर लेने से किसानों पर जहां दोबारा बोआई की नौबत आ गई है, वहीं इस बात की भी कोई गारंटी नहीं है कि दोबारा भी फसल बेहतर ही होगी. ऐसी स्थिति में जिन किसानों के पास कुओं और बोअरवेल से पानी की सुविधा है, वे किसी तरह फसलों को बचाने में लगे हैं. लेकिन लोडशेडिंग उनको भी परेशान कर रही है. इसके चलते तालुका शिवसेना ने बिजली कंपनी से दिन की लोडशेडिंग बंद करने की मांग की है. मांग पूरी नहीं होने पर शिवसेना आंदोलन करेगी.

शिवसेना के तालुका प्रमुख शंकर डडमल और उप जिला प्रमुख कैलाश कोमरेल्लीवार के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल ने आज 9 जुलाई को अपनी मांगों का ज्ञापन तहसीलदार यादव और बिजली वितरण कंपनी के आकरे को दिया. ज्ञापन में कहा गया है कि दिन की लोडशेडिंग के कारण किसानों के लिए खेतों में रोपे गए पौधों को बचाना मुश्किल हो गया है. रात में भी बिजली का आना-जाना नियमित रूप से चलता ही रहता है. ज्ञापन में इस पर रोक लगाने और दिन की लोडशेडिंग को पूरी तरह से बंद करने की मांग की गई है. मांग पूर्ण नहीं होने पर तीव्र आंदोलन चेतावनी भी शिवसेना ने दी है.

शिष्टमंडल में शहर प्रमुख विवेक ठाकरे, शिरीष गुप्ता, धनराज नागपुरे, शरद लाडस्कर, रमेश देवालकर, अनिल सोनकुसरे, चंदू मेश्राम, शशिकांत शंभरकर, विजय चिंचालकर, राजू वाघमारे, हितेन्द्र लांजेवार, सर्वेश्वर मालवे, मयाराम कुमरे, टीकाराम ठाकरे, रामू तिजारे, कृष्णा समर्थ, मारोती गावंडे, सुरेश चौधरी आदि कार्यकर्ता शामिल थे.