Published On : Thu, May 22nd, 2014

भंडारा : वेतन के अभाव में कर्मचारियों पर भूखों मरने की नौबत


तीन माह से नहीं मिला वेतन

भंडारा

जिला परिषद के लघु सिंचन और ग्रामीण जल आपूर्ति विभाग के उपविभागीय कार्यालय में कार्यरत कर्मचारियों का तीन माह से वेतन रुका हुआ है. इससे कर्मचारियों पर भूखों मरने की नौबत आ गई है. गौरतलब है की उन्हें अनेक आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड रहा है. वेतन ना मिलने पर तीव्र आंदोलन करने का इशारा कर्मचारियों ने दिया है.

भंडारा जिला परिषद अंतर्गत साकोली के लघु सिंचन उपविभागीय कार्यालय में 16 कर्मचारी और ग्रामीण जल आपूर्ति विभाग उपविभागीय कार्यालय में 37 कर्मचारी कार्यरत है. इस में दोनों कार्यालय के 53 कर्मचरियों को गत तीन माह से वेतन नहीं मिला है. वेतन ना मिलने का कारण क्या ? इस के संबंध में वरिष्ठ अधिकारी कुछ बताने के लिए तयार नहीं हैं. शादी समारोह का समय चल रहा है, ऐसे में ख़र्चे के लिए कर्मचारियों को इधर – उधर भागना पड रहा है. उधार मांगकर काम चलाना पड रहा है. कुछ दिनों में स्कुलों को शुरुवात होनेवाली है. एडमिशन तथा उन्हें लगनेवाला खर्चा, पढाई के लिए साहित्य का खर्चा उधार मांगकर करना पडेगा. आर्थिक मुश्किलों की वजह से साहूकारों के दरवाजे खटखटाने का समय आ गया है. कर्मचारियों ने वेतन के बारें में पूछा गया तो उन्हें आचार संहिता का हवाला दिया गया. परंतु आचार संहिता ख़तम हुए एक आरप्ता हो गया हैं. ऐसी परिस्थिति में कर्मचारियों का वेतन ना होंने से उन्हें आर्थिक मुश्किलों का सामना करना पड रहा है. वही कर्मचारियों द्वारा तीव्र आंदोलन का ईशारा दिया है.

Representational Pic

Representational Pic