Published On : Wed, Apr 30th, 2014

भंडारा : फ्रांसिसी कोच ने सिखाये फुटबॉल के गुर

लड़कियों ने बढ़ चढ़कर कैंप में हिस्सा लिया

फ्रांसिसी कोच मेर्लिन के साथ कैंप के आयोजक मोहन दाढ़ी

भंडारा

इम्तहान ख़त्म होते ही खिलाडी मैदान में दुबारा नज़र आने लगे हैं और इन खिलाडियों के लिए कोच अलग-अलग कैंप लगाये खेल के गुर सिखा रहे हैं. भंडारा के छत्रपति शिवाजी जिला क्रीडा संकुल में इन दिनों कैंप की भीड़ में एक कैंप ऐसा था लगा जिसने सबको पीछे छोड़ दिया.

क्रीडा विकास संस्था भंडारा एवं नागपुर, जिला क्रिडाधिकारी कार्यालय भंडारा के संयुक्त प्रयासों से आयोजित वर्ल्ड होमलेस और स्ट्रीट फुटबॉल उपक्रम के अंतर्गत हाल ही में ३ दिवसीय फुटबॉल प्रशिक्षण कैंप लिया गया . प्रशिक्षण की आकर्षण रही फ्रांस से आई अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी मेर्लिन होडी जिन्होंने खिलाडियों को फुटबॉल के गुर सिखाये. गौरतलब है की इस कैंप में लड़कियों ने काफी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया.
Football-2
नागपुर टुडे से बात करते हुए क्रीडा विकास संस्था भंडारा के कोच मोहन दाढ़ी ने बताया की भारत में स्ट्रीट फुटबॉल को काफी अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है जिसके तहत ८ से १८ साल के युवा लड़के लड्कियों में फुटबॉल खेल के प्रति रूचि बढ़ाना, उच्चस्तरीय खिलाडी निर्माण करना और खेल के माध्यम से व्यक्तिमत्व विकास और खेल भावना का विकास करने के मकसद से यह कैंप भंडारा में लगाया गया.

इस कैंप का लाभ ६८ खिलाडियों ने लिया जिनमे से कुछ होमलेस खिलाडियों का चयन राज्य एवं राष्ट्रिय स्तर की स्पर्धा और कैंप के लिए किया गया। भारतीय कोच चेन्नई से आये विक्रम वैभव और राघवेन्द्र गुरुमूर्ति, प्रसन्ना खरात, शुभम वर्मा और श्रुतिका आमले ने खिलाडियों को उत्कृष्ट खेल का नमूना देते हुए मार्गदर्शन किया.
Football 1
होमलेस फुटबॉल के जनक प्राध्यापक विजय बारसे, डॉ. आशीष बारसे, जिला क्रिडाधिकारी के कोच मिनल थोरात इनके प्रमुख उपस्थिति में कैंप का समापन हुआ. ज्ञात हो की कुछ दिनों पहले ही शेव्रोले कंपनी की तरफ से भारी सख्या में आये उच्च क्वालिटी के फुटबॉल खिलाड़ियों को और होमलेस और स्ट्रीट फुटबॉल खिलाने वाले आयोजकों को बांटे गए थे।भंडारा में भी होमलेस और स्ट्रीट फुटबॉल को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है.