Published On : Wed, May 28th, 2014

भंडारा : किसानों को समय पर फसल कर्ज मुहैया कराएं


भंडारा जिले के पालकमंत्री कांबले का निर्देश


भंडारा

Bhandara sabha
अधिकांश किसान खरीफ के मौसम में मुख्य रूप से फसल कर्ज पर ही अवलंबित होते हैं. किसानों को परेशानी से बचाने के लिए उन्हें समय पर फसल कर्ज मुहैया कराने के लिए अधिकारी प्रयास करें. राज्य के जलापूर्ति, लोकनिर्माण राज्यमंत्री तथा भंडारा जिले के पालकमंत्री रणजीत कांबले ने यह निर्देश दिया.

जिला परिषद सभागृह में पालकमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित जिलास्तरीय खरीफ मौसम पूर्व विनियोजन समीक्षा बैठक में वे बोल रहे थे. सांसद नानाभाऊ पटोले, विधायक अनिल बावनकर, जि. प. अध्यक्ष वंदना वंजारी, जिलाधिकारी डॉ. माधवी खोडे, मुख्य कार्यपालन अधिकारी राहुल द्विवेदी आदि मंच पर उपस्थित थे.

किसानों की मदद और मार्गदर्शन करें
पालकमंत्री ने कहा कि खरीफ का मौसम किसानों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है. पिछले साल अतिवृष्टि, ओलावृष्टि और अन्य प्राकृतिक परिस्थितियों के चलते किसानों को बहुत अधिक नुकसान उठाना पड़ा था. इस वर्ष किसानों को इस मौसम का बेहतर लाभ दिलाने की दृष्टि से कृषि विभाग सहित अन्य विभागों को समन्वय साधकर किसानों की मदद और मार्गदर्शन करना चाहिए. उसी तरह बीजों की जांच की जाए, ताकि बोगस बीजों से किसानों को धोखाधड़ी से बचाया जा सके. कांबले ने बैठक में निर्देश दिया कि बोआई के बाद अगर बीज न उगें तो ऐसी कंपनियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी की जाए.

घटिया दर्जे की कीटनाशक दवाइयां
रणजीत कांबले ने कहा कि इस साल खरीफ के मौसम के लिए बीज और खाद योजना के मुताबिक उपलब्ध कराई जाएं. यह ध्यान रखा जाए कि इनकी कमी न होने पाए. उन्होंने कृषि पम्पों की बिजली की लोडशेडिंग नहीं करने का भी निर्देश दिया. सांसद नानाभाऊ पटोले ने कहा कि पता चला है कि जिले के किसानों को कृषि केंद्र की मार्फ़त घटिया दर्जे की कीटनाशक दवाइयां बेची जा रही हैं. इसके लिए संबंधित कंपनियों पर कार्रवाई की जानी चाहिए.

बैठक में प्रभारी जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी एस. पी. लोखंडे ने समीक्षा पेश की. सहकारिता, बैंक, बिजली वितरण कंपनी, सिंचाई, मार्केटिंग व अन्य विभागों के संबंधित अधिकारी बैठक में उपस्थित थे.