Published On : Wed, Jul 9th, 2014

बेला : कृषिमित्र ने बैंक मैनेजर की मदद से हडपे बीज क़र्ज़ क़े पैसे


बेला

कृषि मित्र की ओर से गरीब किसानों के बीज क़र्ज़ के पैसे गबन क़र लेने की घट्ना पीपला में हुई है जिसमे बैंक मैनेजर के साथ मिलीभगत कर गरीब किसानों के हक के पैंसे लूटने का काम कृषिमित्र ने किया है.

Advertisement
Advertisement

राष्ट्रीयकृत बैंकों के माध्यम से किसानों को आर्थिक मदद के रूप में बीज क़र्ज़ देने की योजना चलाई जा रही है. यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया, शाखा पिपला मे किसानों को कागज़ातों के बारे में समझाने और फॉर्म आदि भरने मे किसानों की मदत क़े लीए कॄषि मीत्र की नियुक्ती कि गई है. कंठीराम चंदनखेड़े की मदद से पिपला क़े एक गऱीब किसान अमोल ढबाले ने बीज क़र्ज़ केलिए केस पेपर तैयार कीए. कंठीराम ने किसान अमोल ढबाले से 10 हज़ार की मांग की लेकिन अमोल ने पैंसे देने से इनकार कर दिया. कंठीराम ने केस बैंक में दाखिल किया. बैंक से 75000 हज़ार रूपए मंज़ूर हुए.

Advertisement

किसान अमोल ढबाले कि मानें तो कंठीराम ने कागज़ातों पर दस्तख़त लेते वक़्त कोरे विड्रॉल फ़ॉर्म पर अमोल ढबाले के दस्तखत लीए. अमोल ढबाले के मुताबिक़ उसने 75000 में से 16 हज़ार रूपए निकाले थे और बाक़ी पैसे अकाउंट में ही छोड़ दीए. 3/6/2014 को अमोल ढबाले को पता चला की उसके बैंक खाते से 35000 निकाले गए हैं जो की उसने नहिं निकाले . पासबुक में एंट्री करवाने पर ये साफ़ हो गया की किसी और ने अमोल ढबाले के बैंक खाते से पैसे निकाले हैं.

Advertisement

इस संदर्भ में जब अमोल ढबाले ने बैंक मैनेजर मेश्राम से संपर्क किया तो मेश्राम ने जानकारी दी की खाते में से कृषी मित्र क़े बोलने पर पैंसे किसान संजय बेले क़े खाते में जमा किए गए हैं. जब अमोल ढबाले ने पूछा की बीना मेरी इजाजत के मेरे खाते से पैसे क्यूँ ट्रांसफर किए गए तो इसका कोई जवाब मैनेजर मेश्राम के पास नहीं था. अमोल ढबाले के खाते से पैसे निकाले जाने का रिकॉर्ड पासबुक औऱ लेज़र बुक में है लेकिन संजय बेले के खाते में पैसे जमा होने के बारे में कहीं एंट्री नहीं है इसलिए अमोल ढबाले का आरोप है की कृषी मित्र औऱ मैनेजर एक दूसरे से मिले हुए हैं.

जब अमोल ढबाले ने बेला पोलिस थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई तब मामले को नहीं बढने देने क़े लीए कृषिमित्र कंठीराम चंदनखेड़ा ने अमोल ढबाले को 35 हज़ार रूपए बैंक मैनेजर के कहने पर दिए. आए दिन इस तरह की धोखाधड़ी के मामले सामने आते है और इसलिए इस मामले में उचित जांच कर कारवाइ करने की मांग गांववासियों ने की है.

शिवसेना विभाग प्रमुख प्रशांत पाहुणे ने कृषिमित्र कंठीराम चंदनखेड़ा को निष्कासित करने की मांग की है.

Representational pic

Representational pic

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement