Published On : Tue, Jul 29th, 2014

बुलढाणा नप के सफाई कर्मचारी 11 दिनों से हड़ताल पर


बुलढाणा

strike
बुलढाणा नगर पालिका के सफाई कर्मचारी पिछले 11 दिनों से अपनी विभिन्न मांगों के लिए हड़ताल पर हैं. सरकारी स्तर पर कोई दखल नहीं दिए जाने के कारण जिले के सफाई कामगारों ने अखिल भारतीय मजदूर कांग्रेस के तत्वावधान में 28 जुलाई को जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा. ज्ञापन जिलाध्यक्ष मोतीजी बंसीलाल सुनगत के नेतृत्व में दिया गया.

सफाई कामगारों ने अपनी 14 मांगों के लिए 30 जून को काम बंद आंदोलन का नोटिस दिया था. जिलाधिकारी को सौंपे गए ज्ञापन में की गई मांगें इस प्रकार हैं-लाड पागे कमेटी की सिफारिशों के अनुसार सफाई कामगारों के उत्तराधिकारियों को नियुक्ति दी जाए, नगर पालिका-महानगरपालिका-सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग-वैद्यकीय महाविद्यालयों में एक लाख नए सफाई कर्मचारियों के पद सृजित कर उन्हें भरा जाए, मेहतर समाज को अतिपिछड़ा वर्ग मानते हुए स्वतंत्र रूप से 5 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए, सफाई ठेका प्रणाली बंद की जाए, राज्य सफाई कर्मचारी आयोग का पुनर्गठन किया जाए, सफाई कामगारों को घर उपलब्ध कराए जाएं और विकास महामंडल का गठन किया जाए.

सफाई कर्मचारी अपने हक़ की लड़ाई लड़ रहे हैं. अनेक दफा ज्ञापन देने और अनशन के बाद भी न्याय, लगता है, अभी भी कोसों दूर है. ज्ञापन देते समय प्रदेश उपाध्यक्ष रमेश सोनवाल, प्रदेश प्रचार मंत्री गोपाल नकवाल, प्रदेश सचिव नारायण सारसर, संगठन सचिव राजेश जाझोट, भगवान बेंडवाल, शेख लतीफ़ शेख हसन, संगठन मंत्री दत्तू टाक, पूर्व जिला संगठक अर्जुन ढोलकर आदि उपस्थित थे.