Published On : Wed, Aug 20th, 2014

बुलढाणा : करोड़ों के भूखंड बेच दिए लाखों में


नांदुरा बाजार समिति के सचिव पर लगा लाखों के घोटाले का आरोप


जांच और निलंबन कार्रवाई की मांग, अन्यथा होगा आंदोलन


बुलढाणा

नांदुरा कृषि उत्पन्न बाजार समिति के सचिव एस. बी. लहाने ने कुछ संचालकों की मिलीभगत से करोड़ों रुपए मूल्य के चार भूखंड लाखों में बेचकर लाखों रुपयों का घोटाला किया है. भूखंडों की बिक्री के लिए नीलामी की कोई खबर तक नहीं दी गई. उक्त आरोप लगाते हुए राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के पूर्व तालुकाध्यक्ष अंबादास पाटिल ने इस पूरे मामले की जांच कर सचिव व संचालकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. मांग पूरी नहीं होने पर तीव्र आंदोलन की धमकी दी गई है.

उद्देश्य था समिति की आय बढ़ाना
नांदुरा की कृषि उत्पन्न बाजार समिति की आय बढ़ाने, व्यवसाय करने वाले व्यवसाइयों को बाजार भाव पर भूखंड उपलब्ध कराने के उद्देश्य से पुराने यार्ड की जगह पर बीस बाय बीस और दस बाय पांच आकार के छोटे-बड़े भूखंड बनाए गए थे. कुछ भूखंडों पर तो दुकानें भी बना ली गर्इं थी. अंबादास पाटिल ने बताया कि गत वर्ष 74 नं. की दुकान 26 लाख में नीलामी द्वारा बेची गई थी. इसका रिकॉर्ड समिति के पास उपलब्ध है.

घोटाला दर घोटाला
पाटिल के अनुसार, अभी तीन माह पहले बाजार समिति के सचिव एस. बी. लहाने ने बीस बाय बीस आकार की चार दुकानें बिना किसी नीलामी के ही बेच दीं. इन चारों दुकानों की कीमत बाजार मूल्य के हिसाब से 1 करोड़ के आसपास है, लेकिन लहाने ने मामूली दाम पर भूखंड बेचकर लाखों रुपयों का भ्रष्टाचार किया है. इन भूखंडों पर अब बिना लाइसेंस के ही निर्माण कार्य चल रहा है. साथ ही 19 और 86 नं. की दुकानें भी बाजार समिति ने कम कीमत पर व्यवसाय करने के लिए दे दी है. सूत्रों के अनुसार दोनों दुकानें किसी बाहर के व्यक्ति को 15 लाख में बेची गई हैं. जिस व्यक्ति को दुकानें बेची गई हैं उसे ही अभी 400 वर्ग फुट का भूखंड लहाने ने मामूली कीमत पर बेच दिया है. पाटिल ने आरोप लगाया है कि लहाने, कुछ संचालक और उनके रिश्तेदार इस तरह का अवैध धंधा कर रहे हैं.

तीन माह के सौदे रद्द करने की मांग
पाटिल ने भूखंड की बिक्री की पूरी जांच कर गत तीन माह के दौरान हुए सभी सौदों को रद्द करने और सचिव को उनके पद से निलंबित करने की मांग की है. ऐसा नहीं होने पर तीव्र आंदोलन करने की धमकी भी दी है.

Representational pic

Representational pic