Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sat, Aug 23rd, 2014
    Latest News | By Nagpur Today Nagpur News

    नागपुर : १०० करोड़ से ज़्यादा का संपत्ति कर बकाया

    – मनपा में आर्थिक तंगी का ढोंग 

    संपत्ति कर के बड़े बकायेदारों को दे रहे मनपा अधिकारी संरक्षण 

    मनपा में आर्थिक तंगी को मुद्दा बनाकर, मनपा प्रशासन और सत्तापक्ष अपनी रोटी सेंक रहें हैं, जबकि वस्तुस्थिति यह है कि तंगी है नहीं बल्कि दिखाई जा रही है. शहर में जल और संपत्ति कर के बड़े बकायेदारों की लम्बी फेरहिस्त है. सत्तापक्ष के वरदहस्त से मनपा के दिग्गज अधिकारी शहर के बकायेदारों से कर वसूलने की बजाए उन्हें वर्षो से संरक्षण देते आ रहे हैं. इसके एवज़ में इन्हें वार्षिक बड़े तोहफे मिल जाया करते है. वर्षो-वर्ष बढ़ते जा रहे बकायेदारों से कर वसूली के कारण शहर विकास थम सा गया है. केंद्र और राज्य सरकार के शहर में विकास कार्य न चलें तो शहर के विकास की स्थिति जस की तस बनी रहेगी इसमें कोई दोराय नहिं है.

    मनपा आयुक्त, कर विभाग प्रमुख, स्थाई समिति अध्यक्ष और कर समिति अध्यक्ष वर्ष भर सम्पति और जल कर वसूली में रूचि न दिखाते हुए कागज़ी घोड़े के बल पर खुद की पीठ थपथपाते नज़र आने के अलावा सस्ती प्रसिद्धि पाना ही उद्देश्य लिए अपना कार्यकाल पूरा करते नज़र आए. गौरतलब है की मनपा प्रशासन ने अगर ईमानदारी से जल कर और संपत्ति कर वसूली में रूचि दिखाई तो मनपा का कम से कम वर्ष भर का अस्थापना खर्च निकल सकता है.

    जल कर वसूली और संपत्ति कर वसूली के लिए नियुक्त अधिकारी वर्ग अपने स्वार्थ के लिए बकायेदारों को बचाते हैं. छोटे-छोटे मामूली बकायेदारों से वसूली न देने पर उनकी संपत्ति को ज़प्त कर लिया जाता है और झूठी सस्ती प्रचार कर मनपा पर आर्थिक तंगी का हवाला देकर करदाता जनता की भावना से खिलवाड़ किया जाता है. मनपा के संपत्ति कर बकायेदारो को मनपा आयुक्त, संपत्ति कर विभाग प्रमुख और सभी ज़ोन के वार्ड अधिकारी बचाने में मदमस्त है ओर जब मामला गरमा जाता है तो विभाग के ही निम्न स्तर के कर्मियों पर कारवाई कर अपना पल्ला झाड लिया जाता है.
    इसी माह मनपा संपत्ति कर विभाग ने मनपा के सभी ज़ोन के बड़े बकायेदारों की सूची तैयार की है, जिसमे १०० करोड़ के ऊपर का बकाया प्रकाश में आया है.

    इसमे सबसे बड़े बकायेदारों में मिहान इंडिया लिमिटेड -107576887, सेल एड्स  -33515501, कार्टेल आउटडोर एडवर्टाइजिंग -2891772, एसबीआई सक्करधारा शाखा –2012355 और  मनकापुर शाखा –2439920,  इंडियन ओवरसीज़ बैंक , सक्करधारा –1091475 और गाँधीबाग – 2800978, रिलायंस वेबस्टोर– 1658614, एचपीसीएल, लश्करीबाग – 2294512, स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया, सिविल लाईन-134520, बीपीएल मोबाइल सेलुलर लिमिटेड – 2418132, जीएस कॉमर्स कॉलेज-1150994,  वीडिओकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड, सदर-2001961, बीओआई, भरतनगर– 1069001, राठी, 373, धरमपेठ– 623007, आईडीबीआई बैंक, धरमपेठ -3904747, भारत पेट्रोलियम धरमपेठ -1984577, विष्णुजी की रसोई, काछीपुरा -3906700, फ्लायविल एविएशन , गांधीनगर-10920 और जयका व्हीकल ट्रेड  प्रा. लिमिटेड-18614341 का समावेश है.

    यह जानकारी मनपा के संपत्ति कर विभाग के कर अधीक्षक मदन सुभेदार ने १२ अगस्त २०१४ को आरटीआई कार्यकर्ता संजय अग्रवाल को दी है. वे इस जानकारी के आधार पर जल्द ही एक रिट याचिका दायर करेंगे.

    tax

    Click here : List of Property Tax Defaulters

     


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145