Published On : Fri, May 9th, 2014

नागपुर : वासनकर वेल्थ मैनेजमेंट के खिलाफ एफआईआर दर्ज; चेयरमैन जल्द होंगे गिरफ्तार


नागपुर न्यूज़

 

Wasankar 2
बीते कई दिनों से विवादों में घिरी नागपुर की इनवेस्टमेंट कंपनी वासनकर वेल्थ मैनेजमेंट के खिलाफ अंततः नागपुर क्राइम ब्रांच ने एफ आई आर दर्ज कर ली है. शुक्रवार को नागपुर पुलिस की अपराध शाखा ने कंपनी के चेयरमैन प्रशांत वासनकर समेत ५ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इनमें प्रशांत वासनकर के अलावा वासनकर परिवार के ही अन्य सदस्य विनय जयदेव वासनकर, भाग्यश्री वासनकर, अभिजीत जैन चौधरी, मैथिली विनय वासनकर और कुमुद चौधरी शामिल हैं. कंपनी के स्टाफ सदस्यों के खिलाफ भी एफ आई आर रजिस्टर की गई है जिनमें चंद्रकांत राय, देवधर परवड़े और खापरे शामिल हैं.

गौरतलब है कि कंपनी के निवेशकों ने आरोप लगाया है कि उन्हें भारी भरकम रिटर्न का लालच देकर बड़ी रकम का निवेश कराया गया और अब उन्हें उनकी मूल रकम के लिए भी कंपनी के दफ्तर के चक्कर काटने पड़ रहे हैं.

एक निवेशक विवेक अशोक पाठक की शिकायत पर कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पेशे से आर्किटेक्ट और पाठक प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड के डाइरेक्टर ५५ वर्षीय पाठक ने कुछ दिनों पहले अपराध शाखा में वासनकर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, जिसकी गहन जांच के बाद पुलिस ने यह कदम उठाया है. नागपुर में वासनकर वेल्थ मैनेजमेंट का ऑफिस हिल रोड, शिवाजी नगर में स्थित है. दस्तावेजों के आधार पर पाठक ने आरोप लगाया है कि प्रशांत वासनकर ने उन्हें अल्पावधि निवेश के लिए राजी किया और २५ से ४८ प्रतिशत के रिटर्न का लिखित आश्वासन भी दिया। हालांकि न तो उन्हें ये रिटर्न मिला न ही उनकी मूल रकम लौटाई गई. वासनकर ने उन्हें जो चेक दिए थे, वो भी एक से अधिक बार बाउंस हो गए.

नागपुर टुडे से बात करते हुए क्राइम ब्रांच के डीसीपी सुनील कोल्हे ने बताया कि तथ्यों के आधार पर उन्होंने शुक्रवार को वासनकर के खिलाफ मामला दर्ज किया है. उन्होंने कहा, च्ज्हम उनके (प्रशांत वासनकर) खिलाफ सबूत जुटा रहे हैं और इसके बाद ही हम उन्हें गिरफ्तार करेंगे.

अंबाझरी पुलिस स्टेशन के पी आई अनिल कातखेड़े ने बताया कि वासनकर ने कथित रूप से ज्यादा ब्याज दर देने का वादा किया और लोगों से अपनी योजनाओं में निवेश कराया. लंबा समय गुज़र जाने के बाद भी उसने अनेक लोगों की रकम नहीं लौटाई. उन्होंने बताया कि पाठक ने शिकायत दर्ज कराई है कि उन्हे प्रशांत वासनकर से २,७४,३६,००० रुपए लेने हैं.

अंबाझरी पुलिस ने धारा ४२०, ४०६, ५०६ और १२० (बी) के तहत वासनकर वेल्थ मैनेजमेंट के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

पाठक ने आरोप लगाया कि वासनकर ने ८० वर्षीय रिटायर्ड आदमी को भी नहीं छोड़ा जिसने अपनी बेटी की शादी के लिए उनकी फर्जी योजना में निवेश किया था. उन्होंने बताया कि उनके अलावा क्राइम ब्रांच में ७-८ लोगों ने और शिकायत दर्ज कराई है, जिनमें बनपुरकर, अग्रवाल और दलाल शामिल हैं.

Wasankar 1
पाठक ने क्राइम ब्रांच से अपील की है कि पुलिस को वासनकर को एफ आई आर का जवाब देने के लिए समय नहीं देना चाहिए ताकि इस प्रकरण में श्रीसूर्या कांड जैसी स्थिति पैदा न हो. गौरतलब है कि कुछ माह पूर्व ही नागपुर स्थित श्रीसूर्या इनवेस्टमेंट ने भी इसी तरह लोगों को भारी रिटर्न देने का सब्जबाग दिखाकर उनसे करोड़ों रुपए ऐंठ लिए थे. फिलहाल श्रीसूर्या के चेयरमैन समीर जोशी और उनकी पत्नी पल्लवी जोशी जेल में हैं.

पाठक ने बताया कि उन्हें सेबी और नैशनल स्टॉक एक्स्चेंज से भी फोन आए थे, जिसमें उनसे उनके प्रकरण के बारे में विस्तृत जानकारी मांगी गई थी. साथ ही निवेश कंपनियों पर निगरानी रखने वाली इन दोनों एजेंसियों ने उनसे वासनकर के खिलाफ कुल प्रकरणों के बारे में भी जानकारी ली.

गौरतलब है कि स्टॉक मार्केट के एक्सपर्ट वासनकर ने लोगों से यह कहकर निवेश करवाया कि वे ये रकम स्टॉक और डिबेंचर्स में लगाएंगे जिसकी एवज में उन्होंने भारी भरकम रिटर्न का लिखित आश्वासन दिया था, साथ ही अपनी कंपनी के लेटर हेड पर निवेश सर्टिफिकेट भी दिए जिसमें उन्होंने रिटर्न की ऊंची दर भी लिखी थी.

मामले की जांच कर रहे जांच अधिकारी ने नागपुर टुडे को बताया कि जांच प्रगति पर है और बहुत जल्द प्रशांत वासनकर को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. यह जांच डीसीपी कोल्हे के मार्गदर्शन में की जा रही है.