Published On : Fri, Jun 20th, 2014

नरखेड : घरकुल घोटाले में मंत्री महोदय की चुप्पी पर सवाल


शिवसेना जिला प्रमुख राजू हरणे ने उठाया मामला

नरखेड 

narkheed gharukul yojnaa
नगर की पहली घरकुल योजना में बड़ी मात्रा में घोटाला हुआ है. म्हाडा के अधिकारियों ने मामले की जांच की तो भारी भ्रष्टाचार की बात उजागर हुई. रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भेजी गई, मगर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. नरखेड के मुख्याधिकारी द्वारा भ्रष्टाचार की शिकायत पुलिस में करने पर मामला दर्ज किया गया. लेकिन 15 दिन होने पर भी आज तक किसी को पकड़ा नहीं गया है. शिवसेना जिला प्रमुख तथा नरखेड पं.स. के सभापति राजू हरणे ने घरकुल घोटाला पर राज्य के मंत्री अनिल देशमुख की चुप्पी पर सवाल उठाए हैं.

केंद्र सरकार द्वारा आई.एच.एच.डी.पी. (फेस 1)के अंतर्गत साल 2007-08 में घरकुल योजना के तहत 680 घरकुल बनाने का लक्ष्य था. प्रति घरकुल की लागत 80 हजार रुपए थी. इसका ठेका रामदेव बाबा ट्रस्ट अकोला को दिया गया था, लेकिन पहली बरसात में ही घरकुल क्रैक होने से स्लैब गिरना, स्लैब टपकना, फ्लोरिंग उखड़ना जैसी शिकायतें आम होने लगीं. प्लास्टर भी नहीं कराया गया था. शौचालय नहीं बनाने की वजह से घरकुलधारकों को शौच हेतु खुले में जाना पड रहा है. इस संदर्भ में पूर्व सांसद मुकुल वासनिक से शिकायत की गई थी. मामले की जांच हुई, मगर एक साल होने के पश्चात भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है.

narkheed gharukul yojnaa

मुख्यमंत्री की जांच समिति का पता नहीं
नरखेड घरकुल घोटाला प्रकरण नागपुर में हुए विधानमंडल के शीत सत्र में भी उठाया गया था. इस पर मुख्यमंत्री ने एक जांच समिति बनाई थी. मगर आज तक यह समिति नरखेड नहीं पहुंची. घरकुल धारक जान हथेली पर रखकर यहां रह रहे हैं. दूसरी ओर ठेकदार अपने पैसों के लिए कोर्ट जाकर नगरपालिका पर जब्ती आदेश ले आया है. नगर पालिका के मुख्याधिकारी द्वारा घरकुल भ्रष्टाचार की शिकायत पुलिस में करने पर पुलिस ने ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया।इसके बाद नगर पालिका के इंजीनियर निकाजु का तत्काल तबादला कर दिया गया, जिसने चर्चाओं को जन्म दिया.

बड़े नेताओं का हाथ होने की चर्चा
संबंधित प्रकरण में बड़े नेताओं का हाथ होने की चर्चा जोरों पर है.
शिवसेना जिला प्रमुख तथा नरखेड पं.स. के सभापति राजू हरणे ने कहा कि इस क्षेत्र के विधायक अनिल देशमुख सरकार में मंत्री हैं. ऐसा तो हो नहीं सकता कि उन्हें यह प्रकरण मालूम न हो. ज़िस समय घरकुल घोटाला हुआ तब राष्ट्रवादी सत्ता में थी. इस घरकुल प्रकरण के छींटें अपने पर न उड़ें इसलिए सब एक-दूसरे को बचाने में लगे हैं.

narkhed nagar parishad office