Published On : Sat, Aug 16th, 2014

देसाईगंज : कपड़े, सौंदर्य प्रसाधन की दुकानें खाक


तीन दुकानों का 12 लाख से अधिक का नुकसान

Fire in shop
देसाईगंज

स्थानीय गुजरी बाजार में गुरुवार की रात करीब 8 बजे लगी आग में दो कपड़े की और एक सौंदर्य प्रसाधन की दुकान जलकर खाक हो गई. इस आग में तीनों दुकानों का करीब 12 लाख का नुकसान होने का अनुमान है. आग लगने का कारण अभी पता नहीं चल पाया है. आधे किलोमीटर दूर स्थित अग्निशामक दल को घटनास्थल तक पहुंचने में पूरा एक घंटा लग गया. इससे पहले लगी आग में भी यही दुकानें जलकर खाक हो गर्इं थी.

सवा घंटा लगा दमकल के पहुंचने में
गुजरी बाजार में दुकानें एकदम सटी हुई हैं. यहां मुख्य रूप से कपड़े और सौंदर्य प्रसाधनों की दुकानें ही हैं. इसमें से रेवा मूलचंदानी की सौंदर्य प्रसाधन और देवीदास बन्सोड व बाबूलाल निमसरकार की कपड़े की दुकानों में स्वतंत्रता दिवस के दिन रात कोई 8 बजे अचानक आग लग गई. देखते ही देखते आग ने विकराल स्वरूप धारण कर लिया और कुछ देर में ही तीनों दुकानें राख का ढेर बन गर्इं. तत्काल अग्निशामक दल को सूचना दी गई, मगर उसे पहुंचने में करीब सवा घंटा लग गया. दरअसल, दमकल गाड़ी की पानी की टंकी खाली पड़ी थी, जिसे भरने में करीब एक घंटा लगा.

अत्यंत संकरे रास्ते
रेवा मूलचंदानी की दुकान उनका भांजा तुषार पंजवानी चलाता है. उसे अभी 6 माह ही हुआ था. बताया जाता है कि सौंदर्य प्रसाधन की दुकान का 5 लाख, देवीदास बन्सोड की दुकान का 4 लाख और बाबूलाल निमसरकार की दुकान का भी 4 लाख का नुकसान हुआ है. गुजरी के रास्ते अत्यंत संकरे होने के कारण दमकल वाहन को वहां तक पहुंचने में भारी कसरत करनी पड़ी. उपस्थित युवाओं ने प्रयास कर आग पर काबू पाया. माना जा रहा है कि आग शायद शार्ट सर्किट के कारणा लगी.

तब भी था उत्सव, अब भी था उत्सव का दिन
इससे पूर्व 31 दिसंबर 2005 को इन्हीं दुकानों में आग लगी थी और सारी दुकानें जलकर खाक हो गईं थी. उस वक्त भी पूरा शहर पुराने शहर को अलविदा कहने और नए साल के स्वागत में जुटा हुआ था. इस बार भी स्वतंत्रता दिवस और शुक्रवार होने के कारण शहर का पूरा बाजार बंद ही था और सन्नाटा छाया हुआ था.